सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

विश्व प्रसिद्ध सोनार किले में एक बार फिर लौटी राजशाही, नए राजा को देखनी उमड़ी भीड़, बन्द करना पड़ा किले का दरवाजा

राजस्थान के जैसलमेर में फिर दिखी पुरानी विरासत की झलक

Namit Tyagi
  • Jan 15 2021 8:45PM
स्वर्णनगरी जैसलमेर शुक्रवार को फिर से जीवंत हो उठी। ऐसा लगा मानो राजस्थान में राजाओं का काल वापस आ लौटा है। जैसलमेर के 44 वें महारावल पूर्व महाराज चैतन्य राज सिंह को गद्दी पर बैठाकर उनका राज्याभिषेक किया गया। इस मौके का हिस्सा बनने के लिए बड़ी संख्या में लोग किले में व उसके आसपास मौजूद थे। राज्याभिषेक को देखने के लिए भीड़ इतनी बढ़ गई कि किले के दरवाजे बंद करने पड़े जहां राज्याभिषेक होना था।  
25 वर्षीय चैतन्यराजसिंह को महारावल के सिहासन पर बैठाया गया। पूर्व महारावल ब्रजराज सिंह के 28 दिसम्बर को निधन के बाद से ये पद खाली था। इस अवसर पर विश्व प्रसिद्ध सोनार फोर्ट में शुक्रवार को एक बार फिर राजशाही दौर देखा गया।खुली जीप में चैतन्यराजसिंह को अपने निवास स्थान जवाहिर पैलेस से फोर्ट ले जाया गया।चैतन्य राज सिंह ने गद्दी संभालने से पहले अपनी कुलदेवी और जैसलमेर के आराध्य लक्ष्मीनाथ भगवान के दर्शन किये। शाही परिधान में पहुचे चेन्त्यराज को पंडितों के मंत्रोचार के बीच उन्हें महारावल की गद्दी पर बैठाया गया।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार