सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

मजदूरी मांग रहे मजदूर को दबंगो ने पीटा थाने पर नहीं हो रही सुनवाई नहीं मानी हार मजदूर 70 किमी0 दुर पहुंचा पुलिस अधीचक कार्यालय

मजदूरी मांग रहे मजदूर को दबंगो ने पीटा थाने पर नहीं हो रही सुनवाई नहीं मानी हार मजदूर 70 किमी0 दुर पहुंचा पुलिस अधीचक कार्यालय

घनश्याम प्रजापति
  • Mar 4 2021 6:49PM
सरकार लाख दावा करे लेकिन मजदूरों का उत्पीड़न आज भी बदस्तूर जारी है। ठेला खींचकर गुजर बसर करने वाले एक मजदूर को दबंग ने सिर्फ इसलिए मारापीटा क्योंकि वह 100 रुपये बकाया मजदूरी मांगने उसके घर पहुंच गया। पीड़ित शिकायत लेकर थाने पहुंचा तो पहले तो उसे घंटों बैठकार परेशान किया गया फिर थानेदार ने यह कहकर लौटा दिया कि तुम्हारी शिकायत समझ से परे है। फिर भी पीड़ित मजदूर ने हार नहीं मानी और पूरी रात ठेला खींचकर 70 किमी दूर एसपी कार्यालय पहुंच गया लेकिन उसकी एसपी से भी मुलाकात नहीं हो पायी। कार्यालय में मिले सीओ ने यह कहकर लौटा दिया कि जांच कराकर देखते है क्या हो सकता है। आप को बता दें कि मामला मेंहनाजपुर थाना क्षेत्र के इटैली गांव का है। पत्नी के साथ एसपी कार्यालय पहुंचे मजदूर संजय कुमार का आरोप है कि गांव में प्राथमिक विद्यालय का निर्माण चल रहा है। निर्माण गांव का ही एक व्यक्ति करा रहा है। उक्त व्यक्ति ने उसे बल्ली और पटरा लाने को कहा। इसके बाद वह अपने ठेले से बल्ली और पटरा स्कूल पर पहुंचाया लेकिन उसे 100 रुपये मजदूरी नहीं मिली।26 फरवरी की सुबह वह निर्माण करा रहे व्यक्ति के घर मजदूरी मांगने गया तो मजदूरी देने के बजाय दबंग ने उसे बुरी तरह पीट दिया। इसके बाद पीड़ित थाने पहुंचकर तहरीर दिया। अगले दिन थानेदार ने उसे थाने बुलाया। उसे थाने पर घंटों तक बैठाए रखा फिर यह कहकर लौटा दिया कि उसकी शिकायत समझ से परे हैं। इसके बाद भी मजदूर हार नहीं माना बल्कि अपना हक हासिल करने की ठान लिया। सोमवार की शाम वह अपनी पत्नी को ठेले पर बैठाकर 70 किमी दूर जिला मुख्यालय पुलिस अधीक्षक से मिलने के लिए निकल गया। रात में 1.30 बजे वह चेकपोस्ट पहुंचा। वहीं उसने विश्राम किया फिर सुबह छह बजे जिला मुख्यालय के लिए चल दिया। पूर्वांह्न करीब 11 बजे वह एसपी कार्यालय पहुंचा तो पता चला कि पुलिस अधीक्षक तहसील दिवस में गए है। इसके बाद उसने कार्यालय में मौजूद सीओ से मुलाकात कर अपना दर्द बताया। सीओ ने मामले की जांच कराने की बात कहकर उसे वापस भेज दिया। निराश मजदूर वापस लौट गया। उसके आंसू उसकी बेबसी को बयां कर रहे थे।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार