सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

फ्रांस में दिखने लगे इराक जैसे नजारे.. नष्ट होता यूरोप..काट डाली शिक्षक की गर्दन..राष्ट्रपति ख़ुद बोले- "इस्लामिक आतंकी हमला"

पेरिस में आतंकी का शिक्षक पर बर्बर हमला ,काटा सिर

Sudarshan News
  • Oct 17 2020 5:58PM
फ्रांस की राजधानी पेरिस में एक इस्लामिक जिहादी आतंकी ने शिक्षक के सिर पर चाकू से हमला कर उसकी नृशंस हत्या कर दी। यह घटना फ्रांस के पूर्वी - पश्चिमी  क्षेत्र के कन्फ्लेंस जे होनारी में हुई  पुलिस की गोली लगने से हमलावर की मौत हो गई   ।पुलिस ने पाच संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया है।  लेकिन ।पुलिस ने अब तक आतंकी का नाम जाहिर नहीं किया है ।हमलावर की आयु 18 वर्ष बताई गई है बताई जा रही है ।शिक्षक ने पिछले साल पैगंबर मोहम्मद के कार्टून बच्चों को दिखाए थे ।जो फ्रांस की विवादित पत्रिका सार्ली ऐब्दो ने  छापे थे।
मंक्रो ने इस घटना को कायराना हमला कहा
 फ्रांसीसी राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों ने इस  आतंकी वारदात को कायराना हमला कहा ओर साथ इसे ही इस्लामिक  आतंकवाद  का नाम दिया और कहा मैंने हमले वाली घटनास्थल का दौरा किया है। उन्होंने नागरिकों से एकजुट रहने की अपील की मंक्रो ने फ्रांसं की संसद में मृतक शिक्षक को खड़े होकर श्रद्धांजलि दी। फ्रांस की संसद ने इस हमले हो बर्बर आतंकी हमला बताया   

नहीं किया सरेंडर  फिर पुलिस ने किया ढेर
आतंकी ने शिक्षक पर हमला करके शिक्षक का सर काटकर भाग निकला। स्थानिय लोगों ने तुरंत पुलिस को घटना की सूचना दी पुलिस ने सूचना पाते ही क्षेत्र की घेराबंदी की और हमलावर का पीछा किया  पुलिस अधिकारियों ने हमलावर आतंकी को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा लेकिन नहीं किया जिसके बाद पुलिस अधिकारियों ने धमकी दी और उसे गोली मार दी जिसमें कुछ देर बाद आतंकी ने दम तोड़ दिया इस मामले में जांच अब आतंक रोधी दस्ता करेगा। 
मोहम्मद के कार्टून छापने के बाद विवादों में रही पत्रिका
विवादित पत्रिका शार्ली एब्दो नहीं ने पैगंबर मोहम्मद के  कार्टून सन 2015 में छापे थे। इसके बाद इस्लामिक जी आदि लोगों ने इस पत्रिका में काम करने वाले 12 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था ।बाद में अन्य 5 लोगों की जान भी गई थी तब से फ्रांस में चरमपंथी हमले वालों का सिलसिला जारी है अभी कुछ दिन पहले पत्रिका ने पैगम्बर मोहम्मद केविवादित कार्टून कोदोबारा प्रकाशित किया था ।इसके बाद पाकिस्तान के एक शख्स ने सारी यादों के दफ्तर के बाद हमला करके दो लोगों को घायल  कर दिया था।

इमैनुअल मंक्रो इस्लामिक आतंकवादी के खिलाफ अपनाते रहे हैं सख्त रुख
मंक्रो इस्लामिक आतंकवाद और निपटने के लिए लगातार नये ऐलान कर रहे उन्होंने पिछले वर्ष वेदेशो से आने वाले मौलाना पर प्रतिबंध लगाया थ एक स्पीच में फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा था  60 लाख मुसलमानों के अल्पसंख्यक तबके से काउंटर सोसायटी पैदा होने का खतरा है ।इस्लाम एक ऐसा धर्म है जो आज पूरी दुनिया में संकट में है ।इस बयान के बाद उनके खिलाफ दुनिया भर के इस्लामी देशों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

1 Comments

The way the jihadi pigs glorify their pedophile poppet is so revolting. Jihadi vermin need to shot dead like this everywhere , freedom of speech is paramount, muzzrats need to understand what everyone thinks about their pathetic prophet. Drawings of that pedophile should be the norm ,Good on France to uphold their values , they can show the rest of the world how vile the islamic cretins behave.

  • Guest
  • Oct 17 2020 9:23:56:317PM

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार