सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

अयोध्या के बाद अब मथुरा मुक्ति की बारी... अवैध मस्जिद में नमाज रोकने को हिंदुओं का अहम कदम

1968 में क्रूर आक्रांता औरंगजेब ने मंदिर को तोड़कर ईदगाह का निर्माण किया था। इस जमीन पर पूर्व में भी विवाद चल रहा था। ईदगाह मस्जिद में कभी भी नमाज नहीं पढ़ी जाती थी। लेकिन पिछले दिनों से यहां पर पांच समय की नमाज पढ़ी जा रही है।

Prem Kashyap Mishra
  • Nov 25 2021 7:39PM

श्री कृष्ण जन्मस्थान प्रकरण मेें दावाकर्ता श्री कृष्ण जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन समिति के अध्यक्ष एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह ने मंगलवार को डीएम के नाम एक प्रार्थनापत्र एडीएम को सौंपा। इसमें कहा कि शाही ईदगाह मस्जिद भगवान श्री कृष्ण के मूल गर्भ ग्रह पर बनी हुई है। 1968 में क्रूर आक्रांता औरंगजेब ने मंदिर को तोड़कर ईदगाह का निर्माण किया था। इस जमीन पर पूर्व में भी विवाद चल रहा था। ईदगाह मस्जिद में कभी भी नमाज नहीं पढ़ी जाती थी। लेकिन पिछले दिनों से यहां पर पांच समय की नमाज पढ़ी जा रही है।

प्रतिवादीगण जानबूझ कर सौहार्द खराब करना चाहते हैं। इसलिए इन्हें शाही ईदगाह मेें पांच वक्त की नमाज पढ़ने से रोका जाए।  समिति के अध्यक्ष ने प्रार्थना पत्र में बताया है कि औरंगजेब द्वारा मंदिर के हिस्से को ही मस्जिद में परिवर्तित कर दिया गया था। जिससे उक्त दीवारों पर आज भी मंदिर के अवशेष चिन्ह शंख ,चक्र आदि मौजूद हैं। उन्होंने कहा है कि मुस्लिम पक्ष जानबूझकर इन चिन्हों को मिटाने का प्रयास कर रहा है। 

मुस्लिम पक्ष को ईदगाह में नमाज पढ़ने से रोकना बहुत जरूरी है। प्रार्थना पत्र देने वालों में महामंडलेश्वर चित्त प्रकाशनानंद , सच्चिदानंद दास, देवानंद महाराज, सुरेशानंद परम हंस, स्वामी ब्रह्म चेतन्य मनमोहनदास, संगीता शर्मा एडवोकेट, जितेंद्र सिंह, प्रदीपानंद महाराज मौजूद थे।

एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह ने प्रार्थना पत्र में कहा है कि शाही ईदगाह मस्जिद भगवान श्रीकृष्ण के मूल गर्भगृह पर बनी हुई है। इसकी जमीन को लेकर विवाद चल रहा है, जो न्यायालय में है। उन्होंने कहा कि विवाद के बावजूद पिछले कुछ दिनों से ईदगाह मस्जिद में पाँच वक्त नमाज पढ़ी जाने लगी है। इसके पहले इस मस्जिद में कभी नमाज नहीं पढ़ी गई। उन्होंने तर्क दिया कि इस हरकत से सामाजिक सौहार्द्र बिगड़ने का खतरा बन गया है। 

महेंद्र प्रताप सिंह ने प्रार्थना पत्र में तर्क दिया कि ईदगाह मस्जिद भगवान श्रीकृष्ण के मंदिर एक हिस्से को तोड़कर बनाया गया है। क्रूर मुस्लिम आक्रांता औरंगजेब ने मंदिर को तोड़कर ईदगाह मस्जिद का निर्माण कराया था। उन्होंने कहा कि मस्जिद के दीवारों पर आज भी मंदिर के अवशेष के प्रत्यक्ष प्रमाण हैं। उन्होंने कहा कि इसके दीवारों पर शंख, चक्र आदि स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। मुस्लिम पक्ष जान-बूझकर इन चिह्नों को मिटाने की कोशिश कर रहा है। इसलिए ईदगाह में नमाज पढ़ने से रोकना बहुत जरूरी है।

बिना किसी तोड़फोड़ के ईदगाह पर होगा गोपाल का अभिषेक वृंदावन। अखिल भारत हिंदू महासभा की बैठक मंगलवार को ठाकुर राधा सनेह बिहारी मंदिर प्रांगण में हुई। इसमें आगामी 6 दिसंबर को गोपाल जी का अभिषेक करने पर मंथन हुआ। बैठक में सभी ने एक स्वर से कहा कि ईदगाह पर ठाकुर जी का अभिषेक बिना किसी तोड़फोड़ के शांति से करने का निर्णय लिया।

 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार