सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

वामपंथी समर्थन से जमातियों का दुस्साहस चरम पर..दिल्ली के अस्पताल में डॉक्टरों पर हमला, महिला डॉक्टर से छेड़छाड़

सुदर्शन न्यूज़ लगातार दिखा रहा है जातियों का दुस्साहस।

Sudarshan News
  • Apr 15 2020 1:19PM
जब जमातियों के किए जा रहे कुकृत्य को सुदर्शन न्यूज़ ने प्रमुखता से उठाना और दिखाना शुरू किया, ठीक उसी समय  वामपंथी पोर्टलों के साथ-साथ तमाम हिंदू विरोधी तथाकथित   फैक्ट चेकर भी कहीं थूक रहे तो कहीं लड़ रहे जमातियों के समर्थन में उतर आए और उन्होंने कहानी अपने हिसाब से इस हिसाब से गढना शुरू कर दिया कि  जमातियो का किया गया कुकृत्य देश के विरोध में नहीं बल्कि देश के हित में था.. लेकिन उनके तमाम प्रयास और नकली आवरण खुद ही अलग-अलग जगहों पर तबलीगी जमात के जमाती तोड़ रहे हैं और ठीक वही हुआ है एक बार फिर से दिल्ली के एक अस्पताल में जिस पर अब वामपंथी पोर्टल व हिंदू विरोधी फैक्ट चेकर भी पूरी तरह से खामोश है. यकीनन इसमें वह फिलहाल तो डॉक्टरों की कमी और जातियों की देश प्रेम का भी कोई न कोई बहाना अपनी तरफ से गढ़ने में या रचने में व्यस्त होंगे

 मिल रही जानकारी के अनुसार  इस बार का दुस्साहस स्थल   भारत की राजधानी दिल्ली ही है  जो धर्मनिरपेक्षता के लिए   अपने चरम पर जाने जाने वाले  अरविंद केजरीवाल द्वारा शासित है । तबलीगी जमात के चलते एक तो देश में कोरोना के इतने सारे मामले आए। ऊपर से उनकी बदतमीजी की खबरें रुकने का नाम नहीं ले रहीं। अब दिल्‍ली के लोकनारायण जयप्रकाश (LNJP) हॉस्पिटल में महिला डॉक्‍टर से बदसलूकी की गई है। बताया जाता है कि 25 साल का जमाती मरीज यहां एडमिट था। वार्ड 5ए में मौजूद महिला डॉक्‍टर पर उसने अभद्र टिप्‍पणियां की। पुरुष स्‍टाफ ने बचाव किया तो बाकी भीड़ उग्र हो गई। मजबूरन डॉक्‍टर्स को अपने ड्यूटी ऑफिस में छिपना पड़ा। वहां मरीजों ने इकट्ठा होकर दरवाजा तोड़ने की कोशिश की।

 यहां के तमाम स्टाफ  जमातियों के बारे में  सोशल मीडिया पर बहुत पहले से ही जान और समझ रहे थे  इसलिए वह स्वाभाविक रूप से  डर गए  और उनका यह डर अंत में सही भी साबित हुआ . जमातियों की हरकत से परेशान डॉक्‍टर्स ने LNJP के मेडिकल डायरेक्‍टर से शिकायत की है। इसके मुताबिक, मरीज ने एक महिला रेजिडेंट डॉक्‍टर को गालियां देना और अश्‍लील टिप्‍पणियां करना शुरू कर दिया। जब साथी डॉक्‍टर्स ने विरोध किया तो वार्ड के कई और मरीज जुट गए और डॉक्‍टर-स्‍टाफ को धमकाने लगे। सभी कर्मचारी भागकर ड्यूटी रूप में छिप गए तो भीड़ वहां पहुंचकर दरवाजा तोड़ने की कोशिश करने लगी। डॉक्‍टर्स ने शिकायत में कहा है कि ना तो सीएमओ, ना ही सिक्‍योरिटी वालों ने उनकी मदद की।
जब जमातियों के किए जा रहे कुकृत्य को सुदर्शन न्यूज़ ने प्रमुखता से उठाना और दिखाना शुरू किया, ठीक उसी समय  वामपंथी पोर्टलों के साथ-साथ तमाम हिंदू विरोधी तथाकथित   फैक्ट चेकर भी कहीं थूक रहे तो कहीं लड़ रहे जमातियों के समर्थन में उतर आए और उन्होंने कहानी अपने हिसाब से इस हिसाब से गढना शुरू कर दिया कि  जमातियो का किया गया कुकृत्य देश के विरोध में नहीं बल्कि देश के हित में था.. लेकिन उनके तमाम प्रयास और नकली आवरण खुद ही अलग-अलग जगहों पर तबलीगी जमात के जमाती तोड़ रहे हैं और ठीक वही हुआ है एक बार फिर से दिल्ली के एक अस्पताल में जिस पर अब वामपंथी पोर्टल व हिंदू विरोधी फैक्ट चेकर भी पूरी तरह से खामोश है. यकीनन इसमें वह फिलहाल तो डॉक्टरों की कमी और जातियों की देश प्रेम का भी कोई न कोई बहाना अपनी तरफ से गढ़ने में या रचने में व्यस्त होंगे

 मिल रही जानकारी के अनुसार  इस बार का दुस्साहस स्थल   भारत की राजधानी दिल्ली ही है  जो धर्मनिरपेक्षता के लिए   अपने चरम पर जाने जाने वाले  अरविंद केजरीवाल द्वारा शासित है । तबलीगी जमात के चलते एक तो देश में कोरोना के इतने सारे मामले आए। ऊपर से उनकी बदतमीजी की खबरें रुकने का नाम नहीं ले रहीं। अब दिल्‍ली के लोकनारायण जयप्रकाश (LNJP) हॉस्पिटल में महिला डॉक्‍टर से बदसलूकी की गई है। बताया जाता है कि 25 साल का जमाती मरीज यहां एडमिट था। वार्ड 5ए में मौजूद महिला डॉक्‍टर पर उसने अभद्र टिप्‍पणियां की। पुरुष स्‍टाफ ने बचाव किया तो बाकी भीड़ उग्र हो गई। मजबूरन डॉक्‍टर्स को अपने ड्यूटी ऑफिस में छिपना पड़ा। वहां मरीजों ने इकट्ठा होकर दरवाजा तोड़ने की कोशिश की।

 यहां के तमाम स्टाफ  जमातियों के बारे में  सोशल मीडिया पर बहुत पहले से ही जान और समझ रहे थे  इसलिए वह स्वाभाविक रूप से  डर गए  और उनका यह डर अंत में सही भी साबित हुआ . जमातियों की हरकत से परेशान डॉक्‍टर्स ने LNJP के मेडिकल डायरेक्‍टर से शिकायत की है। इसके मुताबिक, मरीज ने एक महिला रेजिडेंट डॉक्‍टर को गालियां देना और अश्‍लील टिप्‍पणियां करना शुरू कर दिया। जब साथी डॉक्‍टर्स ने विरोध किया तो वार्ड के कई और मरीज जुट गए और डॉक्‍टर-स्‍टाफ को धमकाने लगे। सभी कर्मचारी भागकर ड्यूटी रूप में छिप गए तो भीड़ वहां पहुंचकर दरवाजा तोड़ने की कोशिश करने लगी। डॉक्‍टर्स ने शिकायत में कहा है कि ना तो सीएमओ, ना ही सिक्‍योरिटी वालों ने उनकी मदद की।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार