सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

हनुमान मंदिर की मूर्ति को खंडित कर दिया शफी अहमद ने... हुआ गिरफ्तार अब पुलिस ले रही हिसाब

आपको बता दें कि मूर्ति तोड़ने वाले मामले में पुलिस ने शफी अहमद नाम के एक जिहादी मानसिकता वाले युवक को गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक यह वहीं शफी है जिसने हजारीबाग में पत्थर से हनुमान की मूर्ति के तोड़ा था.

Prem Kashyap Mishra
  • Feb 18 2022 4:19PM

झारखंड के हजारीबाग का बरही थाना क्षेत्र पिछले कई दिनों से खबरों को लेकर सुर्खियों में बना हुआ है. अभी कुछ दिनों पहले ही इसी थाना क्षेत्र में रुपेश पांडेय नाम के युवक की 6  फरवरी 2022 को बेहरहमी से हत्या कर दी गई थी. तो वहीं इसी इलाके में 12  फरवरी को एक मंदिर में पत्थर मारकर हनुमान की मूर्ति तोड़ दी गई थी. 

आपको बता दें कि मूर्ति तोड़ने वाले मामले में पुलिस ने शफी अहमद नाम के एक जिहादी मानसिकता वाले युवक को गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक यह वहीं शफी है जिसने हजारीबाग में पत्थर से हनुमान की मूर्ति के तोड़ा था. शफी ने अपना अपराध कबूल कर लिया है. जानकारी के मुताबिक हजारीबाग के SP  मनोज रतन चौथे ने इस घटना का खुलासा करते हुए कहा, “12  फरवरी 2022 को बरही थाना क्षेत्र में तिलैया रोड पर एक मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति को क्षतिग्रस्त करने का एक मामला सामने आया था.

जब इस मामले की गहराई से छानबीन की गयी तब हमने आरोपी शफी अहमद को गिरफ्तार किया. उसकी उम्र 20 वर्ष के आसपास है.  आपको बता दें कि आरोपी शफी ने मूर्ति तोड़ने का जुर्म कबूला है. पुलिस द्वारा पूछताछ में उसने बताया है कि 12 तारीख को एक झंडे को कुछ लोगों के द्वारा जलाने की कोशिश की गई थी. उसी घटना के आक्रोश में उसने इस घटना को अंजाम दिया.

इस मामले से जुड़े और लोगों की भी संलिप्तता सामने आ रही है. मूर्ति तोड़ते समय शफी अकेला था. लेकिन इसमें साजिश रचने और शफी को उकसाने में अन्य लोगों का भी रोल सामने आ रहा है. इस मामले पर बाहरी तत्वों का गहराई से जाँच चल रही है.” घटना से जुड़े अन्य लोंगो के खिलाफ भी जल्द से जल्द कार्रवाई की जायेगी. एक मीडिया रिर्पोट्स के मुताबिक पुलिस अधीक्षक चौथे ने रुपेश पांडेय की हत्या पर भी बयान दिया है.

उन्होंने कहा कि , “मृतक रुपेश की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है. रिपोर्ट के अनुसार उसके सिर पर वार किया गया था. इसके अलावा उसकी गर्दन, पेट और तिल्ली पर भी चोट के निशान मिले हैं. रूपेश की हत्या की वजह के पीछे व्यक्तिगत दुश्मनी बताई जा रही है.” वहीं रुपेश की हत्या का संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग फैसला लिया है. झारखंड सरकार ने रुपेश की मौत से संबंधित नोटिस जारी कर पूरे घटनाक्रम का ब्यौरा माँगा है. इसके साथ ही NCPCR के चेयरपर्सन प्रियंक क़ानूनगो ने 20 फ़रवरी को खुद झारखंड जाने की घोषणा की है. इस दौरान वो स्वयं पूरे मामले की पड़ताल करेंगे.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

ताजा समाचार