सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

20 साल निर्दोष जेल काट कर भी देश के खिलाफ एक शब्द नही बोला विष्णु तिवारी ने... जबकि मात्र थाने पर बुलाने भर को खून बहाने का बहाना बना लेते हैं नरपिशाच आतंकी और उनके वामपंथी समर्थक

बहुत कुछ सीख सकते हैं वामपंथी और जिहादी विष्णु तिवारी जी से..

Rahul Pandey
  • Mar 6 2021 5:27PM
कभी किसी दुर्दांत और कुख्यात आतंकवादी का बचाव करते हुए किसी पक्के वामपंथी को ध्यान से देखिए और सुनिएगा। वह उस नर पिशाच बन चुके आतंकी के जीवन की 25 या 30 साल पुरानी किसी घटना का जिक्र करता है जिसमें उसे कभी, किसी भी कारणवश कभी सामान्य रूप से थाना चौकी पर बुलाया गया रहा होगा.

थाने - चौकी आम जनता की सुरक्षा के लिए बने हैं और सुरक्षा सम्बन्धी कारणों से ही अक्सर किसी सामान्य व्यक्ति को भी बुलाना कोई बड़ी बात नहीं लेकिन वामपंथी वर्ग द्वारा आखिरकार उस आतंकी के मानव रक्त की प्यास को उस थाने और चौकी पर बुलाए जाने की घटना से जोड़कर उसके द्वारा देश और धर्म के विरुद्ध किए गए कुकृत्य को वामपंथी रंग और ढंग से जायज ठहराने का प्रयास किया जाता है। 

लेकिन जब बात सत्य, न्याय, नीति और धर्म की आती है तो सामने आता है निरपराध और निर्दोष विष्णु तिवारी जैसा चेहरा। 20 साल जेल खामोशी से काट गए विष्णु तिवारी। वामपंथियों ने हिंदू धर्मद्रोही और कामेडी के नाम पर जिहाद फैलाते साजिशकर्ता मुनव्वर फारुकी के मात्र सप्ताह भर की जेल को राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दिया.

लेकिन 20 साल निरपराध और निर्दोष जेल में बंद रहे विष्णु तिवारी का नाम कभी किसी की चर्चा या जुबान पर नहीं आया। 20 साल निर्दोष जेल काट के बाहर निकले विष्णु तिवारी मुस्कुराते रहे और तमाम मीडिया सामने होने के बाद भी एक शब्द आज तक सरकार अथवा अपने देश के विरुद्ध नहीं बोला। कारण ये था कि उन्हें देश से अथाह प्रेम था और है.  

विष्णु तिवारी के साथ आए लोग दहाड़े मार-मार कर रो दिए लेकिन विष्णु तिवारी को अपने देश से बेहद प्रेम है ऐसा उन्होंने साबित किया है। पूरी जवानी जेल में काट लेने के बाद भी विष्णु तिवारी ना सिर्फ उन नर पिशाच आतंकियों बल्कि उनके वामपंथी समर्थको के लिए भी एक आदर्श है जो थाने या चौकी बुलाए जाने की एक घटना को अपनी रक्त की प्यास से जोड़कर उसे जायज ठहराने का प्रयास करने लगते हैं.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार