सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

14 फ़रवरी- पुलवामा के विधर्मी हमले में वीरगति पाए सभी वीरों को शत शत नमन.. राष्ट्र की एक आवाज- "शत्रु का सर्वनाश होने तक न्याय अभी बाकी है"

आज ही का दिन था वो जब देश की सुरक्षा का जिम्मा अपने कन्धो पर उठा कर हमारे वीरों ने कश्मीर में एक नापाक हरकत में अपने प्राण गंवा दिए थे.

Rahul Pandey
  • Feb 14 2021 11:12AM
आज ही का दिन था वो जब देश की सुरक्षा का जिम्मा अपने कन्धो पर उठा कर हमारे वीरों ने कश्मीर में एक नापाक हरकत में अपने प्राण गंवा दिए थे. उन्होंने आतंक के उस रूप को प्रेम और सद्भावना से समझाने और उनको सही राह पर लाने की बहुत कोशिश की थी लेकिन उन्होंने अपनी नापाक हरकते कम करने के बजाय और ज्यदा बढा दी थी.

ये हमला उसी दुस्साहस की अंतिम पराकाष्ठा थी. इस हमले के बाद देश ने एक स्वर में देश ही नहीं बल्कि दुनिया के लिए नासूर बन गये इस्लामिक आतंकवाद को जड से खत्म करने की मांग की थी. आज उस हमले की पहली बरसी पर देश में एक बार फिर से उस संकल्प को दोहराया जा रहा है.

इसी के साथ संकल्प ये भी है कि राष्ट्रवादी और धर्मरक्षक तब तक चैन से नही बैठने वाले हैं जब तक इस प्रकार के आतंकवाद को खत्म नहीं कर लिया जाता जिसने न सिर्फ हमारे अनगिनत सैनिको का बलिदान लिया बल्कि तमाम जनता के भी प्राण संकट में डाले.  

हद की बात तो ये रही कि जब भारत के जांबाजों ने इस हमले का बदला लिया तब भारत की ही जनता से वोट लेने वाली विपक्ष की कई पार्टियों ने सेना के शौर्य पर सवाल उठा दिए थे. जबकि सरकार ने दावा किया कि भारत की तरफ से की गई जवाबी कार्रवाई में जैश-ए-मोहम्मद के सभी आतंकी ठिकानों को तहस-नहस कर दिया गया है.

PAK प्रायोजित इस्लामिक आतंकी आज भी सुरक्षा बलों के काफिले को निशाना बनाने की फिराक में हैं. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान बलिदान हुए थे. यह जवान सीआरपीएफ की 76 बटालियन से थे। उन सभी वीर बलिदानियों को शत शत नमन और इस्लामिक आतंकवाद के समूल नाश में सक्रिय साझीदारी का संकल्प भी.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार