सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

लाशों के अंबार लग गया है आर्मीनिया और अजरबैजान के युद्ध मे.. सैनिकों के साथ ही मर रही मानवता भी

आर्मीनिया और अज़रबैजान के बीच लगातार चल रहे युद्ध मे रूस और तुर्की भी हो सकते है शामिल |

Sudarshan News
  • Sep 29 2020 6:15PM
काकेकस इलाके के दो देशों आर्मीनिया और अज़रबैजान के बीच पिछले दो दिन से लगातर युद्ध चल रहा है, दोनों ही देश एक दूसरे के ऊपर टैंक, तोपों, हेलिकॉप्टर और फाइटर जेट से अचूक हमले कर रहे हैं | दोनों देशों के बीच यह युद्ध विवादित क्षेत्र नागोरनो-काराबाख को लेकर शुरू हुआ, दोनों ही देश इस जमीन को अपना बता रहे हैं | रिपोर्ट के अनुसार अब तक दोनों देशों के बीच चल रही इस जंग मे 80 से अधिक लोगों की मौत हुई है और सैकड़ो लोगों को गंभीर चोटे आई हैं |

आर्मीनिया और अज़रबैजान के बीच जैसे-जैसे तनाव बढ़ रहा है वैसे-वैसे इस युद्ध मे रूस और तुर्की के उतरने के असार नज़र आ रहे हैं, अगर रूस और तुर्की इस युद्ध मे उतर जाते है तो बहुत जल्द यह युद्ध विश्वयुद्ध का रूप ले सकता है जो पुरे विश्व के लिए चिंता का विषय हैं | अज़रबैजान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि आर्मीनिया ने सोमवार सुबह के वक्त अज़रबैजान के टारटार शहर पर गोलाबारी करी जिसके जवाब मे अज़रबैजान ने जवाबी कार्यवाही करी, वही आर्मीनिया के अधिकारियों ने इस इल्ज़ाम को पूरी तरह गलत बताया उन्होंने बयान दिया कि सुबह के वक़्त अज़रबैजान ने घातक हमले करना शुरू किया था जिसके बाद उन्होंने उनका जवाब दिया |

दोनों ही देश एक तरह एक दूसरे पर टैंक, ड्रोन और फाइटर जेट से हमला कर रहे है तो वही दूसरी तरफ अपनी प्रभुता दिखाने के लिए दावे कर रहे है | अज़रबैजान के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया है कि उन्होंने आर्मीनिया के अब तक 550 से अधिक सैनिकों को मार गिराया हैं, तो आर्मीनिया ने दावा किया है कि उन्होंने अज़रबैजान के चार हेलिकॉप्टरो को ढेर कर दिया हैं | आर्मीनिया को जहां रूस का सहारा है तो अज़रबैजान के पक्ष मे तुर्की और इजराइल खड़े है, रूस और आर्मीनिया के बीच हुए रक्षा संधि की वजह से रूस आर्मीनिया के मदद के लिए खड़ा हैं | तुर्की का कहना है कि हमारा मानना था कि इस मतभेद का शांति से समाधान निकलेगा लेकिन आर्मीनिया ऐसा नहीं चाहता इसलिए हम अज़रबैजान कि मासूम जनता के साथ खड़े हैं, अज़रबैजान के खिलाफ आर्मीनिया या किसी और देश के आक्रामक कार्यवाही के खिलाफ तुर्की खड़ा हैं | तुर्की का यह बयान रूस के लिए था ऐसा अनुमान लगाया जा रहा हैं |

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार