सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

शराब दुकानों में पड़े छापे, तो सूबे की सियासत हुई गर्म, BJP ने सरकार पर लगाये कार्रवाई के दौरान करोड़ों रुपये की हेराफेरी के गम्भीर आरोप

छत्तीसगढ़ में शराब सियासत का बड़ा केंद्र बिंदु बना हुआ है। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में पूर्ण शराबबंदी का वादा किया था। अब प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी तो नहीं हुई, तो भाजपा कांग्रेस सरकार पर निशाना लगातार साध रही है, वहीं आज छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में शराब दुकानों पर छापामार कार्रवाई हुई, तो इस मामले पर सियासत भी गरमा गई।

योगेश मिश्रा, छत्तीसगढ़
  • Jul 13 2020 10:22PM
छत्तीसगढ़ में शराब सियासत का बड़ा केंद्र बिंदु बना हुआ है। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में पूर्ण शराबबंदी का वादा किया था। अब प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी तो नहीं हुई, तो भाजपा कांग्रेस सरकार पर निशाना लगातार साध रही है, वहीं आज छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में शराब दुकानों पर छापामार कार्रवाई हुई, तो इस मामले पर सियासत भी गरमा गई।
आबकारी आयुक्त के निर्देश पर संभागीय उड़नदस्ता रायपुर के नेतृत्व में देशी/विदेशी मदिरा दुकानों में अनियमितता पाये जाने के शिकायतों के मद्देनजर विशेष अभियान चलाकर छापामार कार्यवाही की गई। रविवार को रायपुर के संतोषी नगर की, देशी एवं विदेशी मदिरा दुकान, लभाण्डी की विदेशी मदिरा दुकान, हीरापुर की विदेशी मदिरा दुकान, लाखेनगर की विदेशी मदिरा दुकान और रायपुरा (सरोना) की विदेशी मदिरा दुकानों में आकस्मिक छापामार कार्यवाही की गई। छापामार कार्यवाही के दौरान संतोषी नगर की देशी एवं विदेशी मदिरा दुकान और रायपुरा (सरोना) स्थित विदेशी मदिरा दुकान में मदिरा का विक्रय शासन द्वारा निधारित दर से अधिक दर पर करते हुए पाये जाने के कारण आबकारी अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया गया। इन दुकानों के आरोपी विक्रयकर्ताओं को सेवा से पृथक करने के लिए सक्षम प्राधिकारी के समक्ष प्रकरण प्रस्तुत किया जाएगा।
एक तरफ जहां कई शराब दुकानों में छापेमारी हुई वहीं दूसरी ओर इस पूरे मामले में प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी ने आबकारी विभाग के साथ सरकार पर भी सवाल खड़ा किया है। 
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ने प्रदेश में शराब के कारोबार में राज्य सरकार के संरक्षण में बड़े घोटाले को अंजाम देने का अंदेशा जताया है। आबकारी विभाग की लगभग आधा दर्ज़न शराब दुकानों पर की गई छापामार कार्रवाई के दौरान सामने आई करोड़ों रुपए की हेराफेरी के मद्देनज़र उपासने ने कहा कि भाजपा शुरू से ही शराब के कारोबार में बड़े घोटाले को अंजाम देने की आशंका व्यक्त करती आ रही है और सामने आई हेराफेरी सरकार की नीयत में खोट और भाजपा की आशंका को प्रामाणिक सिद्ध कर रही है।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ने कहा कि भाजपा शुरू से कह रही है कि शराब के कारोबार में लगभग 30 फीसदी शराब गोरखधंधे में खपाई जा रही है और उसका कोई हिसाब भी नहीं है। ज़ाहिर है, गोरखधंधे में खप रही शराब से मिलने वाला राजस्व प्रदेश के ख़जाने में भी नहीं जा रहा है। भाजपा प्रवक्ता उपासने ने जानना चाहा कि जब प्रदेश सरकार ख़ुद शराब बेच रही है तो फिर किसकी शह पर यह अवैध कारोबार चल रहा है और उससे मिलने वाला राजस्व किनकी तिजोरियों में पहुँच रहा है? कहीं कांग्रेस की गिरती सरकारों की वज़ह से अवैध वसूली पूरे देश का टारगेट छत्तीसगढ़ सरकार को तो नहीं दे दिया गया है? गंगाजल की कसम खाकर शराब को अब अवैध वसूली का कारोबार बना देने वालों को प्रदेश की जनता कभी माफ़ नहीं करेगी। उपासने ने कहा कि यह हैरत की बात है कि प्रदेश सरकार की शह पर शराब दुकानों में इस तरह गोरखधंधे को अंजाम देकर अपनी तिजोरियाँ भरने का शर्मनाक खेल हो रहा है। कोरोना संक्रमण की अनदेखी करके भी क्या प्रदेश सरकार इसीलिए लॉकडाउन में भी शराब दुकानें खुलवाने को लालायित नज़र आ रही थी?

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार