सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

भिखारी बने ना- पाक का सब कुछ हो रहा नीलाम..इस्लामिक मुल्क मलेशिया तक ने नहीं दिखाया कोई रहम

दोस्ती सिर्फ इस्लाम तक, पैसे न चुकाने पर पाकिस्तान का प्लेन मलेशिया ने किया जब्त

Shiv Kumar
  • Jan 15 2021 6:48PM
कहा जाता है कि मुश्किल समय में अपने भी साथ छोड़ जाते हैं, यह बात पाकिस्तान पर बिल्कुल सही साबित होती है। क्योंकि पाकिस्तान सर तक कर्ज में डूबा है, और ऐसे में उसके इस्लाम के नाम पर बने मित्र उसका साथ छोड़ रहे हैं। उनके लिए पैसो का महत्व इस्लाम की मित्रता से बड़ा है। और यह साबित किया है पाकिस्तान के एक और मित्र मलेशिया ने।

दरअसल पाकिस्तान के दोस्त मलेशिया ने बड़ा झटका देते हुए वहां की सरकारी विमान कंपनी पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) के एक बाईंग 777 पैसेंजर प्लेन को जब्त कर लिया है। यह विमान लीज पर लिया गया था और पैसा नहीं चुकाने पर विमान को जब्त  कर लिया गया है।

बता दें कि क्वालालंपुर एयरपोर्ट पर जब विमान को जब्त किया गया उस वक्त विमान में पैसेंटर और चालक दल सवार था, जिन्हें बेइज्जेत करके उतार दिया गया, यह जानकारी पाकिस्तान की मीडिया ने ही दी थी।

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) ने इसी मामले में एक ट्वीट किया, जिसमें बयान जारी करते हुए कहा कि- पीआईए के एक एयरलाइन को मलेशिया की स्थानीय अदालत ने वापस मंगवा लिया है, यह एकतरफा फैसला है। यह विवाद पीआईए और अन्य पार्टी के बीच यूके कोर्ट में लंबित है।

बता दें कि रिपोर्ट्स के मुताबिक, मलेशिया ने जिस विमान को जब्ती किया है, वह लीज पर लिया गया था और पाकिस्तान ने लीज की शर्त के तहत पैसा नहीं चुकाया जिसके चलते इस विमान को क्वादलालंपुर में जब्ते कर लिया गया है। बता दें कि पाकिस्ताान इंटरनेशनल एयरलाइन्सै के बेड़े में कुल 12 बोइंग 777 विमान हैं। और पाकिस्ता नी अखबार डेली टाइम्सश की रिपोर्ट के मुताबिक इन विमानों को विभिन्नइ कंपनियों से समय-समय पर ड्राई लीज पर लिया गया है।

आपको बता दें कि इससे पहले चीन, ईराक और सऊदी अरब भी पाकिस्तान को आर्थिक रूप से झटके दे चुके हैं। पाकिस्तान के कभी सबसे करीब रहे सऊदी अरब ने भी अपने 3 अरब डॉलर वापस मांग लिए थे। जिसे इमरान सरकार ने चीन से लोन लेकर सऊदी अरब का कर्ज चुकाया था। पाकिस्तान की ऐसी स्थिति उसके आंतकियों के प्रति बढ़ते प्रेम से है जिस कारण से कोई भी देश पाक की मदद नहीं करना चाहता। और जो कुछ इस्लामिक देश साथ नज़र भी आ रहे थे वो भी पाक की स्थिति और आतंक को सहयोग देने को देखकर खुद को अलग कर रहे हैं।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार