सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

पीएम मोदी ने आतंक को बढ़ावा देने वाले देशों को दिया कड़ा संदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सरदार वल्लभ भाई पटेल की 145वीं जयंती पर स्टेच्यू ऑफ यूनिटी पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस दौरान पीएम मोदी ने पुलवामा आतंकी हमले का जिक्र करते हुए सीमा पर आतंक को बढ़ावा देने वालों को कड़ा संदेश दिया। वह बोले - सीमाओं पर भी भारत की नजर और नजरिया दोनों बदल गए हैं । हमारे जवान हमारी सीमा पर बुरी नजर रखने वालों को कड़ा सबक सिखा रहे हैं ।

Alok Jha
  • Oct 31 2020 2:03PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सरदार वल्लभ भाई पटेल की 145वीं जयंती पर स्टेच्यू ऑफ यूनिटी पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस दौरान पीएम मोदी ने पुलवामा आतंकी हमले का जिक्र करते हुए सीमा पर आतंक को बढ़ावा देने वालों को कड़ा संदेश दिया। वह बोले - सीमाओं पर भी भारत की नजर और नजरिया दोनों बदल गए हैं । हमारे जवान हमारी सीमा पर बुरी नजर रखने वालों को कड़ा सबक सिखा रहे हैं । पुलवामा हमले पर बोलते हुए उन्होंने कहा - उस वक्त मैं सारे आरोपों को झेलता रहा, भद्दी भद्दी बातें सुनता रहा ।  मेरे दिल पर गहरा घाव था , लेकिन पिछले दिनों पड़ोसी देश से जिस तरह से खबरें आई है, जो उन्होंने स्वीकार किया है, इससे इन दलों का चेहरा उजागर हो गया है । 

पीएम मोदी ने कहा मैं ऐसे राजनीतिक दलों से आग्रह करूंगा कि, देश की सुरक्षा के हित में, हमारे सुरक्षाबलों के मनोबल के लिए, कृपा करके ऐसी राजनीति न करें, ऐसी चीजों से बचें।अपने स्वार्थ के लिए, जाने-अनजाने आप देशविरोधी ताकतों की हाथों में खेलकर, न आप देश का हित कर पाएंगे और न ही अपने दल का
पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि  अपनी सम्प्रभुता और सम्मान की रक्षा के लिए भारत पूरी तरह तैयार है । जिस तरह कुछ देश आतंकवाद के समर्थन में खुल कर आ गए है। उन्होंने कहा - जब हमारे देश के जवान शहीद हुए थे उस वक्त भी कुछ लोग राजनीति में लगे हुए थे । ऐसे लोगों को देश भूल नहीं सकता है। 
आगे पीएम ने कहा कि देश भूल नहीं सकता कि तब कैसी-कैसी बातें कहीं गईं, कैसे-कैसे बयान दिए गए।देश भूल नहीं सकता कि जब देश पर इतना बड़ा घाव लगा था, तब स्वार्थ और अहंकार से भरी भद्दी राजनीति कितने चरम पर थी । पिछले दिनों पड़ोसी देश से जो खबरें आईं हैं, जिस प्रकार वहां की संसद में सत्य स्वीकारा गया है, उसने इन लोगों के असली चेहरों को देश के सामने ला दिया है।अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए, ये लोग किस हद तक जा सकते हैं, पुलवामा हमले के बाद की गई राजनीति, इसका बड़ा उदाहरण है। 
उन्होंने कहा - जिस प्रकार पाकिस्तान की संसद में सत्य स्वीकारा गया है, उसने इन लोगों के असली चेहरों को देश के सामने ला दिया है । अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए, ये लोग किस हद तक जा सकते हैं, पुलवामा हमले के बाद की गई राजनीति, इसका बड़ा उदाहरण है।  
आज यहां जब मैं अर्धसैनिक बलों की परेड देख रहा था, तो मन में एक और तस्वीर थी।ये तस्वीर थी पुलवामा हमले की। देश कभी भूल नहीं सकता कि जब अपने वीर बेटों के जाने से पूरा देश दुखी था, तब कुछ लोग उस दुख में शामिल नहीं थे, वो पुलवामा हमले में अपना राजनीतिक स्वार्थ देख रहे थे । 
इस दौरान पीएम मोदी ने सरदार पटेल की दुहाई देते हुए राजनीतिक दलों से कहा कि मैं ऐसे राजनीतिक दलों से आग्रह करूंगा कि देश की सुरक्षा के हित में, हमारे सुरक्षाबलों के मनोबल के लिए, कृपा करके ऐसी राजनीति न करें, ऐसी चीजों से बचें ।  अपने स्वार्थ के लिए, जाने-अनजाने आप देश विरोधी ताकतों की हाथों में खेलकर, न आप देश का हित कर पाएंगे और न ही अपने दल का ।  
पीएम ने कहा कि आज के माहौल में, दुनिया के सभी देशों को, सभी सरकारों को, सभी पंथों को, आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होने की बहुत ज्यादा जरूरत है। शांति-भाईचारा और परस्पर आदर का भाव ही मानवता की सच्ची पहचान है । आतंकवाद-हिंसा से कभी भी, किसी का कल्याण नहीं हो सकता है। 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार