सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

लोकप्रियता के सभी रिकॉर्ड तोड़ गए रामायण और महाभारत जैसे धारावाहिक दूरदर्शन बना नंबर-1

भारत की जनता एक बार फिर अपने पूर्वजों के सत कर्मों की देख रही है झलक.

Sudarshan News
  • Apr 12 2020 5:43PM
नॉक डाउन में अपने-अपने घरों में रह रहे देशवासियों के लिए  अगर कोई विषय सर्वाधिक प्रिय है तो वह विषय है उनके पूर्वजों द्वारा जिया गया वह गौरवशाली जीवन जिसका दूसरा उदाहरण अन्यत्र इस संसार में नहीं मिलने वाला है। देश की जनता विदेशी संस्कृत को परोसने वाले तमाम चैनलों के मकड़जाल से पूरी तरह निकल चुकी है और उसी का परिणाम अब यह है कि दूरदर्शन  वर्तमान समय में देश का नंबर वन चैनल टीआरपी की दौड़ में बन चुका है। इसमें कहीं ना कहीं भगवान श्री राम और भगवान श्री कृष्ण का पूरा योगदान है जिन्होंने रामायण और महाभारत   सीरियल के माध्यम से देश की जनता को एक बार फिर जय श्री राम और जय श्री कृष्ण बोलने पर मजबूर कर दिया। यह मजबूरीस भक्ति भाव है जो ईश्वर से किसी मानव को बांध कर रखती है.

 गौर करने योग्य है कि टीवी सीरियल रामायण और महाभारत में   लोकप्रियता के सभी आयामों को बिछड़ते हुए नए कीर्तिमान स्थापित कर दिए हैं. सिर्फ रामायण और महाभारत जैसे सीरियलों के दम पर इस समय दूरदर्शन भारत का पहले नंबर का चैनल बन चुका है। यहां सबसे खास बात यह है कि रामायण और महाभारत को देखने वाले ग्रामीण क्षेत्रों से ज्यादा शहरी क्षेत्रों के लोग हैं जिन्हें तथाकथित आधुनिकता के नाम पर बरगलाने पर तमाम प्रयास किए गए हैं .  शहरी क्षेत्रों की जनता का  इस प्रकार से धार्मिकता की तरफ  मुड़ना  सर्व समाज के लिए  लाभकारी साबित हो रहा है ।  यहां यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि   तमाम अपराधों का ग्राफ  खुद पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार  तेजी से नीचे आया है ..

 सबसे खास बात यह है कि रामायण और महाभारत किस समय काल में जैसे पहले सड़कों पर सन्नाटा हुआ करता था और लोग टीवी से चिपके हुए दिखाई देते थे अब वैसा ही कुछ लगभग   सोशल मीडिया पर देखने को मिलता है और उस समय फेसबुक पोस्ट और व्हाट्सएप मैसेज जैसे संदेश ग्रुपों में या होम पेज पर . कम दिखाई देते हैं। इसका कारण यह भी बताया जा रहा है उस समय अधिकतर लोग अपने अपने मोबाइलों में ही इस पवित्र सीरियल काआनंद ले रहे होते हैं।यहां उल्लेखनीय यह भी है कि   सुदर्शन न्यूज़ चैनल के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके जी ने रामायण सीरियल को शुरू करने के लिए सरकार से मांग की थी जिसके बाद यही मांग राष्ट्रीय मांग बन गई थी। ऐसे में एक बार फिर से अपने गौरवशाली पूर्वजों की तरफ भारत की ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों की जनता का झुकाव आने वाले समय में देश के लिए एक बहुत बड़ा सुखद संदेश माना जा रहा है।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार