सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

देश भर में कोरोना फैला देने वाले जमातियो के बजाय बबिता फोगाट के खिलाफ उतरा कथित सेक्युलर और वामपंथी वर्ग.. क्या कोरोना से खतरनाक ट्विट ?

क्या सच में इसी का नाम भारत की धर्मनिरपेक्षता है ?

Sudarshan News
  • Apr 17 2020 5:58PM
कहना गलत नहीं होगा कि इस प्रकार की धर्मनिरपेक्षता संभवतः किसी और देश में देखने को न मिले. यहाँ एक वर्ग का विरोध और एक का ही हर हाल में समर्थन करना ऐसा ट्रेंड बना डाला गया है जो एक बार फिर से जीवंत हो गया है. दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज़ से निकल कर पूरे देश भर में फ़ैल जाने वाले और देश के तमाम इलाको को संक्रमित कर देने वाले तबलीगी जमात के समर्थन में कुछ इस प्रकार से उतरने का प्रयास हो रहा है कि उनके खिलाफ कुछ भी बोलने वाले को ही असल दोषी माना जाने लगा है. इस कृत्य में सबसे आगे वामपंथी वर्ग है जो देश ही नही बल्कि दुनिया की इस विपत्ति काल में भी अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है. जो कुछ भी भारत की विदेशो में शान और नाम दोनों बढा चुकी बबिता फोगाट के खिलाफ ट्विटर पर चल रहा है उसके बाद देश सहज अनुमान लगा रहा है कि वामपंथियो के हिसाब से देश के लिए जरूरी कौन ? बबिता फोगाट या तबलीगी जमाती . यहाँ ये ध्यान रखने योग्य है कि भाजपा नेता बबीता फोगाट ने जमातियो को जाहिल कहा; ट्रोल हुई तो विडियो शेयर कर बोलीं - सच सुनने की आदत डाल लो . यद्दपि अब सोशल मीडिया पर बबिता फोगाट को व्यापक समर्थन मिल रहा है और ट्विटर पर उनके लिए ट्रेंड चलने लगा.

वामपंथी और तबलीगी समर्थको की माना जाय तो अब देश भर में कोरोना बाँट रहे तब्लीगियो को न तो जाहिल कहा जा सकता है , न देशद्रोही और न ही किसी प्रकार का दोषी.. जो कहेगा उसके खिलाफ धावा बोल दिया जाएगा जैसे अब बबिता फोगाट के खिलाफ बोला गया है. उन्होंने जमातियो को जाहिल कहा. यद्दपि विरोध करने वाले अब तक ये नहीं बता पाए है कि आख़िरकार फिर जमातियो को क्या कहा जाय ? लेकिन बबिता फोगाट ने भी अपने फौलाद जैसे इरादे स्पष्ट कर दिए हैं और अपना विरोध करने वाले चरमपंथियों को सीधा जवाब दे डाला है. उन्होंने कहा है कि कि वे कोई जायरा वसीम नहीं हैं, जो धमकियां से डरकर घर बैठ जाएंगी. संघर्ष और गलत के खिलाफ लड़ाई को अपने जीवन का अंग बताते हुए उन्होंने बताया कि हमेशा लड़ती रहेंगी. यहाँ जायरा नाम इसलिए लिया गया है कि वो एक ऐसी एक्ट्रेस थीं जिन्होंने कट्टरपंथी धमकियों के बाद पिछले साल फिल्म इंडस्ट्री छोड़ दी थी.  उन्होंने दंगल और द सीक्रेट सुपरस्टार जैसी फिल्मों में काम किया था। जायरा ने दंगल फिल्म में बबीता की बड़ी बहन गीता फोगाट के बचपन का किरदार निभाया था.

बबीता ने गुरुवार को टि्वटर के जरिए तबलीगी जमात पर निशाना साधा था। अपने ट्वीट में उन्होंने जो हैशटैग इस्तेमाल किया था वह कई लोगों को नागवार गुजरा था। उनके इस ट्वीट के बाद ट्विटर पर लोगों ने उनको घेरना शुरू कर दिया था, इसके साथ ही उनके फैन्स उनके समर्थन में आ गए थे और साथ समर्थन जताने लगे। दोनों हैशटैग शुक्रवार को टॉप ट्रेंड्स में बने रहे। बबीता फोगाट का कहना है कि देश में कोरोना वायरस को तबलीगी जमात के लोगों ने फैलाया है, आज जितने भी केस देश में हैं उनमें सबसे ज्यादा तबलीगी जमात वाले लोगों के ही हैं. स्टार रेसलर ने कहा कि अगर तबलीगी जमात ने कोरोना वायरस को नहीं फैलाया होता तो अबतक लॉकडाउन खत्म हो गया होता. विरोधियों को जवाब देने के लिए बबीता फोगाट ने वीडियो ट्वीट किया, तो उनकी बहन गीता फोगाट ने भी उनके समर्थन में ट्वीट किया. इसके अलावा कई रेसलर अब बबीता फोगाट के समर्थन में आ गए हैं.


ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार