सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

पत्रकारिता के पावन पेशे को कुछ ऐसे बदनाम कर रहे थे शमीम, अहमद और ग़ुलाम.. बची वो कौन सी जगह जहां ऐसा संक्रमण नहीं ?

बिहार की राजधानी पटना की है ये घटना..

सुदर्शन न्यूज़ डेस्क
  • Jun 14 2021 8:21AM
यदि मिलावट की बात की जाए तो संभवत वस्तुओं से लेकर मनुष्य तक कहीं ऐसा कोई क्षेत्र अथवा देश नहीं छोड़ा गया है जहां पर कुछ उन्मादी व अपराधी सोच के लोगों ने संक्रमण अथवा प्रदूषण ना फैलाया हो।

ध्यान देने योग्य है कि नीतीश कुमार के बिहार में शराबबंदी के फैसले को वहां की जनता ने सर आंखों पर लिया और इसी के चलते तमाम विरोधियों के बाद भी विधानसभा चुनाव में पुनः नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री पद पर आसीन हुए हैं.

लेकिन कहीं ना कहीं कुछ ना कुछ ऐसे लोग जरूर हैं जो किसी भी साजिश के किसी भी स्तर तक जाकर के सुधर रहे समाज और बदल रहे बिहार को गलत रूपों में देश और दुनिया के आगे प्रस्तुत करने की कोशिश  कर रहे हैं. और इस बार इसी साजिश में हथियार बनाया गया पत्रकारिता का पावन पेशा.

मिल रही जानकारी बिहार की राजधानी पटना से है जहां पर मीडिया के स्टीकर का दुरुपयोग शराब की अवैध तस्करी के लिए किया गया जिस को पटना पुलिस ने बेहद सूझबूझ और समझदारी के साथ पकड़ा और पत्रकारिता को बदनाम होने से बचाया।

ज्ञात हो कि पटना में प्रेस लिखी गाड़ी से शराब की तस्करी की जा रही थी. इसका खुलासा तब हुआ जब पुलिस टीम दीघा थाने के Jp सेतु पर नाकेबंदी कर दो क्रेटा कार को पकड़ लिया.

 कार की तलाशी के क्रम में 326 लीटर अंग्रेजी शराब की बरामदगी की गयी. उसके साथ ही पांच लोग-  अमरोज इकबाल, मो शमीम, मशरूर अहमद, गुलाम सरवर व एक अन्य को गिरफ्तार किया गया।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार