सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

जबलपुर शहर के गोल बाज़ार स्थित सभा ग्रह में गरजे मेजर जनरल जी.डी बक्षी, कहा आजाद हिंद फौज के 26 हजार सैनिकों को इतिहास में नहीं मिली जगह,

रॉयल इंडियन नेवी की 75वीं वर्षगाँठ पर मेजर जनरल बक्शी का उद्बोधन।

जीतेन्द्र
  • Mar 8 2021 10:49AM
जबलपुर । रॉयल इंडियन नेवी की 75वीं वर्षगाँठ व सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर गोल बाजार स्थित सभा ग्रह में सभा का आयोजन किया गया जिसमें जनरल जीडी बक्शी बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहे। जीडी बक्शी ने इतिहास पर प्रकाश डालते हुए कहा की भारत में आजाद हिंद फौज के 26000 शहीद जवानों को देश अब भूल गया ,भारत में 1947 के बाद से अब तक जितने भी युद्ध हुए हैं. उनमें मात्र 25800 सैनिक शहीद हुए हैं लेकिन आजाद हिंद फौज ने स्वतंत्रता की लड़ाई 26000 सैनिकों ने बलिदान दिया था, लेकिन पूरे देश में इन सैनिकों का एक भी मेमोरियल नहीं है. इनके नाम तक लोग नहीं जानते हैं. सरकार ने इन्हें भुला दिया है, इसके पीछे सोची समझी साजिश काम कर रही है।
 
वहीं सन् 1857 के पहले विद्रोह की भी चर्चा करते हुए कहा चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी, बुंदेले हरबोलो के मुँह से हमने सुनी कहानी थी। मेजर जनरल बक्शी ने सन् 1946 के नौसैनिक विद्रोह का जिक्र करते हुए कहा कि इन नौसैनिकों को भी सैनिकाें का दर्जा प्राप्त हो, जो अब तक इनको नहीं मिला है। विशिष्ट अतिथि प्रशांत सिंह प्रांत संघचालक, सेवानिवृत्त पीओ रजनीश सिंह, वरिष्ठ अधिवक्ता एवं पूर्व नौसैनिक निरंजन चक्रवर्ती ने देश की आजादी और बाेस के योगदान पर प्रकाश डाला।
 
पूर्व सैनिक संघ से अध्यक्ष रजनीश सिंह, महामंत्री शशिशंकर, वीर सिंह, जेपी लोधी, सनत पाल, विश्वरूप दास, विजय कुमार, प्रहलाद कनौजिया, दिनेश्वर सिंह, शीतल प्रसाद, रामस्नेही व बालकिशन की उपस्थिति रही। संचालन ब्रिगेडियर विपिन त्रिवेदी ने किया।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार