सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

भूकंप से भी तेजी से हिल रही महाराष्ट्र की राजनीतिक धरती... एक और लेटर ने गर्म किया सियासी तापमान

महाराष्ट्र में फिर एक बार फूटा लेटर बम ,लेकिन अबकी बार आरोपी ने ही खोल दी दलाल नेताओं की पोल ?

Khiladi
  • Apr 8 2021 6:49PM
 

एंटीलिया केस में आज फिर एक  लेटर विस्फोट हुआ है ,लेकिन अबकी बार खुद सचिन वझे ने जांच एजेंसी एनआईए को एक पत्र लिखा है ,जिसमे उन्होंने वो सभी आरोप पार दर्शित  किये  है ,जो  आरोप मुंबई नगरी में गली गली में चर्चा बने हुए  है ,सचिन वझे ने अपने  पत्र में महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के अलावा अबकी बार परिवहन मंत्री पर वसूली कराने का आरोप लगाया है 

सचिन वझे ने पत्र में लिखा है मुझे जुलाई-अगस्त 2020 में मुझे मंत्री अनिल परब ने मुझे उनके आधिकारिक बंगले पर बुलाया,बैठक में परब ने मुझे शिकायत में शुरुआती जांच देखने और ट्रस्टीज से तोलमोल करने को कहा, उन्होंने मुझे जांच बंद कराने के नाम पर एसबीयूटी  से 50 करोड़ लाने को कहा, मैंने इसमें असमर्थता जताई क्योंकि  एसबीयूटी  में किसी को नहीं जानता था और जांच पर मेरा कोई नियंत्रण नहीं था 

यही नहीं वझे ने पत्र  में और भी कई आरोप मंत्री  पर लगाये है ,जिनके साबित होने से सरकार भी दोबारा से घिर सकती है ,शायद ही कोई मंत्री फसने इस्तीफा देने की नौबत न पड़  जाये, अनिल परब ने एक बार फिर जनवरी 2021 में बुलाया और बीएमसी के कुछ ठेकेदारों के खिलाफ जांच और प्रत्येक से 2 करोड़ रुपए वसूलने को कहा था 

वाझे ने लिखा, उन्होंने मुझे ऐसे 50 ठेकेदारों से कम से कम 2 करोड़ रुपए लाने को कहा, वझे ने यह भी दावा किया है कि उसने अनिल देशमुख और अनिल परब से उगाही को लेकर मिले आदेश के बारे में पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को सूचित किया था वझे ने यह भी कहा है कि परमबीर सिंह ने उन्हें इन मांगों को नहीं मानने को कहा था
  
पत्र में दावे भी अनेक

सचिन वझे का पत्र आरोपों में घिरे लोगो को और भी हरकत में डाल  सकता है ,अनिल देशमुख और सचिन वझे की मुलाकात पर भी सचिन ने लिखा है ,और सबुत के तौर पर कहा है की मुलाकात के समय अनिल देशमुख का पीए कुंदन भी मौजूद था ,वाझे ने  पत्र  में लिखा है कि अनिल देशमुख ने एक बार फिर जनवरी 2021 में ऐसा करने को कहा , उसकी यह मुलाकात देशमुख के आधिकारिक बंगले पर हुई थी , वझे के मुताबिक, मीटिंग में देशमुख ने हर बार और रेस्त्रां से 3-3.5 लाख रुपए वसूलने को कहा

इससे पहले भी पूर्व मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने एक पत्र दिया था, जिसमें बाद पूरा महाराष्ट्र हलकान में पड़  गया था ,अब इस केस की जांच एनआईए के साथ ही  सीबीआई भी कर रही है ,अभी तक इस केस में वसूली कराने के आरोप से घिरे होने के बावजूद अनिल देशमुख को इस्तीफे देना पड़ा है ,इससे इतर जल्द ही सीबीआई बहुत नेताओं को कठघरे में बैठाकर पूछताछ कर सकती है ,

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार