सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

जन्मजयंती विशेष: Mangal Pandey के खिलाफ अंग्रेजो को नहीं मिल रहे थे गवाह. तब सामने आया गद्दार “पलटू शेख” और बना फांसी का गुनहगार

आज आजादी के उस उद्घोष की सभी भारतीयों को याद दिलाते हुए दो अंग्रेज अफसरों को मार गिराने वाले मंगल पाण्डेय और उनके सहयोगी ईश्वरी प्रसाद पाण्डेय को बारम्बार नमन और वन्दन करते हुए उस गद्दार पल्टू शेख को अनंत काल तक धिक्कार है जिसकी गद्दारी के चलते भारत माता को अपने दो जांबाज़ लाल खोने पड़े थे.

Abhay Pratap
  • Jul 19 2021 10:43AM

हिन्दू समाज के खिलाफ फिल्मो के उस्ताद आमिर खान ने भी ये सच अपनी फिल्म मंगल पाण्डेय द राइजिंग में छिपा लिया क्योकि उनको कुचलने के लिए केवल हिन्दू भावनाए चाहिए. १८५७ की क्रान्ति के उद्घोष में जहाँ मंगल पाण्डेय ने ब्रिटिश सत्ता को हिला दी थी लेकिन उसी समय एक और बलिदानी को उनके बाद फांसी की सजा मिली थी जो उनके साथ खड़ा पूरे मामले को देख रहा था. वामपंथी और झोलाछाप इतिहासकारों ने उनका जिक्र कही भी नहीं किया. इस वीर सिपाही का नाम था ईश्वरी प्रसाद पाण्डेय, जिन्होंने मंगल पाण्डेय का साथ दिया था तथा जिन्हें मंगल पाण्डेय का साथी मान कर फांसी की सजा दे दी गयी थी.

लेकिन क्या कभी देश को बताया गया उस गद्दार का नाम जो असल में जिम्मेदार है मंगल पाण्डेय की फांसी का ? ऐसा क्या था जो उस नाम को छिपाया गया .. मंगल पाण्डेय के हमले से घायल अंग्रेज अफसर सार्जेंट मेजर ह्वीसन और लेफ्टीनेंट बॉब जमीन में पड़ा लेकिन किसी ने उसकी मदद नहीं की और अंदर ही अंदर सब अंग्रेजो की मौत से खुश भी दिखाई दे रहे थे. वो दोनों अंग्रेज मदद के लिए चीखते रह गये ..भले ही कोई लाख कहे कि उस से देशभक्ति का सबूत न माँगा जाए लेकिन पल्टू शेख की गद्दारी मंगल पाण्डेय की जांबाजी जैसी सदा सदा के लिए अमर ही रहेगी.

पल्टू शेख ये वही गद्दार है जो बाद में मंगल पाण्डेय की फांसी का कारण बना था क्योकि इसने इन दोनों योद्धाओं के खिलाफ गवाही दी थी . इस पूरे मामले के बाद किसी ने भी मंगल पाण्डेय के खिलाफ मुह नहीं खोला था लेकिन इस पल्टू शेख ने न सिर्फ अंग्रेजो को मारते मंगल पाण्डेय की कमर को कस के पकड लिया था बल्कि बाद में उसने अंग्रेजो के आगे पूरे मामले में गवाही भी दी और कहा कि मंगल पाण्डेय ने उसके आगे ही ह्वीसन और वोघ को मारा है .. उसको उसके तमाम साथियों ने बहुत समझाया था लेकिन वो टस से मस नहीं हुआ और बाद में मंगल पाण्डेय को फांसी दिलवा कर अंग्रेजो से काफी इनाम आदि वसूला था.

जब मंगल पाण्डेय दोनों अग्रेज अफसरों का वध कर रहे थे तब इस पल्टू शेख ने न सिर्फ मंगल पाण्डेय की कमर को कस के पकड कर अंग्रेजो की मदद करनी चाहिए बल्कि खुद से भी मंगल पाण्डेय पर हमला किया ..लेकिन दो अंग्रेज अफसरों को अकेले मार गिराने वाले जांबाज़ मंगल पाण्डेय इन इस पल्टू शेख पर भी हमला किया जिसमे वो घायल हो कर भाग गया था और बाद में गवाही देने के लिए सामने आया था जिसके बाद मंगल पाण्डेय और ईश्वरी प्रसाद पाण्डेय को फांसी की सजा हुई थी. इतना नहीं नहीं , पालतू शेख ने अंग्रेजो को पूरी जानकारी भी दी कि उनकी सेना में उनके लिए कौन क्या सोचता है जिसके बाद अंग्रेजो ने और भी सैनिको को उसी के हिसाब से सजाएं दी थी जिसमे नौकरी से निकालना और जेल में डालना आदि प्रमुख था. 

आज आजादी के उस उद्घोष की सभी भारतीयों को याद दिलाते हुए दो अंग्रेज अफसरों को मार गिराने वाले मंगल पाण्डेय और उनके सहयोगी ईश्वरी प्रसाद पाण्डेय को बारम्बार नमन और वन्दन करते हुए उस गद्दार पल्टू शेख को अनंत काल तक धिक्कार है जिसकी गद्दारी के चलते भारत माता को अपने दो जांबाज़ लाल खोने पड़े थे. मंगल पाण्डेय की जन्मजयंती पर उनकी जांबाजी के साथ पल्टू शेख की गद्दारी को भी सुदर्शन न्यूज प्रमुखता से सबके आगे रखता है और सवाल करता है उन तमाम नकली कलमकारों से कि उन्होंने क्यों इस नाम को अपने तक सीमित रखा और क्यों नहीं जानने दिया दुनिया को गद्दारी की एक ऐसी मिसाल जिसकी भरपाई भारत आज तक नहीं कर पाया है.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार