सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

जानिए... आखिर हर ऑक्सीजन एक्सप्रेस बोकारो ही क्यो जा रही है..

कोरोना संक्रमण के इस दौर में देश में चलने वाली हर ऑक्सीजन एक्सप्रेस का एक ही गंतव्य है... और वह है झारखंड का बोकारो.. आखिर क्यों बोकारो है इतना खास...? जानने के लिए पढ़िए ये रिपोर्ट....

रजत के मिश्र Twitter- rajatkmishra
  • Apr 21 2021 4:19PM

कोरोना संक्रमण काल में यदि कहा जाय कि ऑक्सीजन से ज्यादा कीमती आज कुछ भी नही है तो गलत न होगा। देश में चल रही हर ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन का अब एक ही ठिकाना है और वह है बोकारो। आखिर क्यों हर ऑक्सीजन ट्रैन का गंतव्य बोकारो है?

अकेले बोकारो स्टील में लगभग 1500 मैट्रिक टन  ऑक्सीजन का उत्पादन प्रतिदिन होता है। इसमें से सात सौ मैट्रिक टन ऑक्सीजन स्टील प्लांट में तो आठ सौ मैट्रिक टन गैस उत्पादन करने वाली छोटी इकाइयों को दिया जाता है। फिलहाल सरकार के निर्देश के बाद मेडिकल गैस को रिफिल करने वाली इकाईयों को अधिक से अधिक गैस दी जा रही है।

बोकारो की आक्सीजन फिलहाल देश के दूसरे राज्य बिहार, उत्तर प्रदेश,  मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र को भी भेजी जा रही है। यह आपूर्ति सेल की पाटर्नर कंपनी आइनोक्स एयर प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के माध्यम से की जा रही है। जबकि बोकारो में तीन कंपनियों के पास मेडिकल सिलेंडर बनाने का लाइसेंस हैं। इसमें बोेकारो गैसेज, मां चित्रलेखा, इस्टर्न आक्सीजन शामिल है। इसी प्रकार रांची में महेश्वरी मेडिकल, एस के इंडस्ट्री और ऑक्सीजेड मेडिकल आक्सीजन की आपूर्ति करते हैं।

राज्य में टाटा स्टील व बोकारो स्टील सबसे बडी आक्सीजन उत्पादक कंपनी है। एक ओर जहां बोकारो स्टील के आक्सीजन का प्रबंधन आइनोक्स एयर प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड करता है तो टाटा स्टील का प्रबंधन लिंडसे इंडिया और एयर वाटर जमशेदपुर करते हैं। निजी कंपनियां स्टील प्लांट की जरूरत के अनुसार आक्सीजन उपलब्ध कराने के बाद शेष आक्सीजन छोटी इकाइयों को देते है। इन्हीं तीन कंपनियों पर छोटी आक्सीजन इकाई निर्भर है।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार