सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

बॉलीवुड में जो भी लेता है हिन्दू और हिंदुत्व का नाम उसको झेलना पड़ता है यही सब.. सुप्रीम कोर्ट में पड़ी ये याचिका है प्रमाण

अपने खिलाफ मामलों की सुनवाई शिमला में कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंची कंगना, बताया जान को खतरा

Shiv Kumar
  • Mar 3 2021 6:29PM

अपने तेज तर्रार बयानों के चलते सुर्खियों में रहने वाली कंगना रनौत इस समय अपनी जान को खतरा बता रहा हैं। उन्हें डर है कि उन पर मुंबई में चल रहे मामलों में सुनवाई के दौरान हमला हो सकता है। इसलिए उन्होंने अपने खिलाफ चल रहे सभी मामलों को मुंबई की जगह शिमला सुनवाई कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई है।

दरअसल बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनोट और उनकी बहन रंगोली चंदेल ने अपने खिलाफ लंबित मामलों को मुंबई से शिमला की अदालत में स्थानांतरित कराने के लिए उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर की है। बता दें कि उन्होंने आरोप लगाया कि यदि मुंबई में उनके खिलाफ दर्ज मामलों की सुनवाई होती है, तो उनके विरुद्ध शिवसेना नेताओं में बदले की भावना के कारण उनकी जान और संपत्ति को खतरा होगा।

बता दें कि कगंना ने एक समाचार चैनल को साक्षात्कार देते समय जावेद अख्तर के साथ मुलाकात के बारे में बात की थी जिसको लेकर कंगना के खिलाफ जावेद अख्तर ने मानहानि का मामला दर्ज कराया था। जिसकी सुनवाई शिमला करने में करने की मांग की है। साथ ही मुंबई में अली काशिफ खान देशमुख द्वारा दर्ज प्राथमिकी को भी स्थानांतरित करने का अनुरोध किया गया है, जो कोरोना महामारी के दौरान चिकित्सकों पर हमले को लेकर गुस्सा जाहिर करने वाले चंदेल के ट्वीट से संबंधित है।


दरअसल CAA NRC  से लेकर किसान आंदोलन तक सभी मुददों पर खुलकर अपनी राय रखती आयीं हैं। जिससे देश में एक वर्ग उनसे खासा परेशान है। पर इसके साथ ही उनके समर्थन में बहुत ही ज्यादा लोग है। फिल्म क्षेत्र में कंगना ऐसी कलकार हैं जो बिना किसी ड़र के खुलकर अपनी राय रखतीं हैं।

 

 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार