सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

रेलवे के इस क़दम के फ़ैसले के बाद कुछ इस तरह बदल जायेगी रेलवे की तस्वीर

प्राइवेट ट्रेन की ओर एक और कदम, मनपसंद रेल खरीद सकेंगी निजी कंपनियां

Gaurav Mishra
  • Jul 22 2020 8:31AM

रेल मंत्रालय ने बैठक करने के बाद कुछ बड़े फ़ैसले लेने का इशारा कीया जिसके बाद बदल जाएगी रेलवे की तस्वीर इस ख़बर को पढ़ने के बाद आप भी कहेंगे अब आपकी यात्रा होगी मंगलमय बैठक के दौरान रेल मंत्रालय और नीति आयोग के अधिकारियों ने निजी कंपनियों को बिडिंग प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी. रेलवे का मानना है कि इन ट्रेनों को चलाने की जिम्मेदारी एक से ज्यादा कंपनियों को दिए जाने से स्वस्थ प्रतियोगिता होगी और सर्विस डिलीवरी की गुणवता बढ़ेगी.

तेज सुरक्षित और आरामदायक सेवा के उद्देश्य को ध्यान में रखकर शुरू होने जा रही प्राइवेट ट्रेनों की दिशा में भारतीय रेलवे रफ्तार में काम रही है. इस सिलसिले में रेलवे ने मंगलवार को देश में निजी ट्रेन चलाने की इच्छुक 16 कंपनियों के साथ मीटिंग की. इस दौरान रेलवे ने कहा कि प्राइवेट ट्रेन चलाने को इच्छुक कंपनियां अपने पसंद से ट्रेन खरीद सकेंगी या लीज पर ले सकेंगी. इस मीटिंग रेल मंत्रालय और नीति आयोग से जुड़े अधिकारियों ने निजी कंपनियों के सवालों का जवाब दिया और निजी ट्रेनों के परिचालन से जुड़ी उनकी शंकाओं का समाधान किया.

109 जोड़ी रूट पर 151 आधुनिक ट्रेनें बता दें कि रेल मंत्रालय पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के आधार पर देशभर में निजी ट्रेन को चलाने की महात्वाकांक्षी परियोजना पर काम रहा है. इस सिलसिले में रेलवे ने देशभर के 109 जोड़ी रूटों पर 151 आधुनिक यात्री रेलगाड़ियां चलाने के लिए प्रस्ताव आमंत्रित किए हैं. ये 151 ट्रेनें अभी चल रही ट्रेनों के अलावा होंगी. इसके लिए रेलवे ने 12 आवेदन आमंत्रित किए थे. रेलवे की इस कोशिश के नतीजे के रूप में भारतीय रेलवे में नई तकनीक आएगी, रेलवे का राजस्व बढ़ेगा और रोजगार के नए मौके पैदा होंगे.

30000 करोड़ रुपये का होगा निवेश मीटिंग के दौरान रेल मंत्रालय और नीति आयोग के अधिकारियों ने निजी कंपनियों को बिडिंग प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी. रेलवे का मानना है कि इन ट्रेनों को चलाने की जिम्मेदारी एक से ज्यादा कंपनियों को दिए जाने से स्वस्थ प्रतियोगिता होगी और सर्विस डिलीवरी की क्वॉलिटी बढ़ेगी

. रेलवे का अनुमान है कि इस स्कीम के कारगर होने से रेलवे में 30000 करोड़ रुपये का निजी निवेश होगा. इन ट्रेनों की वजह से पैसेंजर सर्विस सेक्टर में मांग और आपूर्ति के बीच बनी खाई को भी पाटने में मदद मिलेगी.

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार