सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

गुरुग्राम में कई स्थानाें पर खुले में नमाज का हाे रहा विरोध, स्थानीय लोगों से पुलिस को मिला एक हफ्ते का अल्टीमेटम

वहीं अब सेक्टर-47 के बाद सेक्टर-12 में भी खुले में नमाज पढ़ने का विरोध स्थानीय लाेग करने लगे हैं. बता दें कि शुक्रवार को सेक्टर-12 के चौक पर कुछ लोगों ने खुले में नमाज पढ़ने का विरोध किया।

Geeta
  • Oct 23 2021 12:29PM

गुरुग्राम में बीते दिन सेक्टर-47 में खुले में नमाज पढ़ने का विरोध स्थानीय लाेग कर रहे थे. विराेध करने वाले स्थानीय लाेगाें का कहना है कि नमाज पढ़ने वाले स्थानीय लोग नहीं हैं। कुछ बाहरी लोग यहां आकर नमाज पढ़ रहे हैं। वहीं अब सेक्टर-47 के बाद सेक्टर-12 में भी खुले में नमाज पढ़ने का विरोध स्थानीय लाेग करने लगे हैं. बता दें कि शुक्रवार को सेक्टर-12 के चौक पर कुछ लोगों ने खुले में नमाज पढ़ने का विरोध किया।

बता दें कि सेक्टर-12 के अलावा पहले भी शहर के अन्य स्थानों पर भी खुले में नमाज पढ़ने का विरोध हो चुका है। इसके चलते ऐसे लोगों को वहां से हटना पड़ा। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले को शांत कराया और वहां से नमाजियों को भेज दिया।

वहीं, सामाजिक समरसता को ध्यान में रखते हुए वजीराबाद में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने खुद ही नमाज नहीं पढ़ी। हालांकि, मामला दो समुदायों से जुड़ा होने के कारण पुलिस सभी संगठनों को समझाने का प्रयास कर रही है।

एत स्थानीय व्यक्ति ने बताया कि जब लाेग खुले में नमाज़ पढ़ने वालाें काे विराेध करने लगे ताे यहां तैनात पुलिस ने विरोध करने वालों को आगे नहीं बढ़ने दिया। जानकारी के अनुसार पुलिस की मौजूदगी में नमाज पढ़ी गई। आदमी ने बताया कि सेक्टर-12ए में खुले में नमाज पढ़ने का विरोध जताने के लिए 30 से 35 लोग एकत्र हो गए थे। विरोध करने वाले लोगों ने नारेबाजी भी की।

बताया जा रहा है कि जैसे ही विरोध की सूचना पुलिस बल काे मिली ताे वहां भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। बता दें कि इस मामले में सेक्टर-14 थाना में शिकायत करने वाली ईस्ट राजीव नगर निवासी महिला कमलेश सैनी का आरोप है कि बीते कुछ समय से लोग खुले में नमाज पढ़ रहे हैं। ये लोग न तो राजीव नगर कॉलोनी के रहने वाले हैं और ना ही गुरुग्राम गांव के हैं। ये बाहरी लोग हैं, जो यहां आकर नमाज पढ़ रहे हैं।

शिकायतकर्ता ने मांग की कि इन लोगों की जांच होनी चाहिए। शिकायतकर्ता ने यह भी कहा कि यदि अगले सप्ताह भी यहां नमाज पढ़ी गई तो स्थानीय लोग विरोध जताएंगे और माहौल खराब हुआ तो इसकी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी। 

वहीं इस मामले में मुफ्ती मोहम्मद सलीम कासमी  का कहना है कि 21 साल से प्रशासन की निगरानी में खुले में नमाज पढ़ी जा रही है। अब अचानक विरोध कर पहचान पत्र मांगे जा रहे हैं। शांतिपूर्वक नमाज पढ़ने से किसी को दिक्कत नहीं होने चाहिए।''

सेक्टर-14 थाना के कार्यकारी एसएचओ, करतार सिंह ने कहा कि ''नमाज पढ़ने के दौरान हुए विरोध के दौरान मौके पर पुलिस मौजूद रही। इससे माहौल को बिगड़ने नहीं दिया गया। महिला की ओर से लिखित शिकायत मिली है। इसकी जांच की जा रही है।'' 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार