सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

सुरेश चव्हाणके जी की गिरफ्तारी कराने के हर प्रयास में जुटे विरोधी... हिंदू राष्ट्र की शपथ के विरुद्ध कोर्ट में 27 जनवरी को सुनवाई

देश का कथित सेक्यूलर व लिबरल वर्ग, खान मार्किट गैंग आदि छत्रपति शिवाजी महाराज की शपथ दोहराए जाने को लेकर सुरेश चव्हाणके जी की न्यायिक लिंचिंग करने पर आमादा हैं.

Abhay Pratap
  • Jan 23 2022 12:28AM

वो 19 दिसंबर 2021 का दिन था जब देश की राजधानी दिल्ली में हिंदू युवा वाहिनी द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके भी शामिल हुए. कार्यक्रम के दौरान का सुरेश चव्हाणजी ने उपस्थित जन समूह के साथ हिंदवा सूर्य छत्रपति शिवाजी महाराज की हिंदू राष्ट्र की उस शपथ को दोहराया जो उन्होंने 26 अप्रैल 1645 रायरेश्वर महादेव मंदिर में ली थी.

सुरेश चव्हाणके जी ने इस हिंदू राष्ट्र की शपथ के इस वीडियो को अपने ट्विटर हैंडल पर अपलोड किया. इसके बाद वामपंथी विचारधारा से पोषित मीडिया के एक विशेष वर्ग व तथाकथित सेक्यूलर वर्ग बौखला उठा. इन सभी ने मिलकर सुरेश चव्हाणके जी के विरुद्ध सोशल मीडिया पर अभियान शुरू कर दिया, जिसके हिंदू समाज ने सुरेश चव्हाणके जी के समर्थन में हुंकार भरी तथा #एक_ही_सपना_हिन्दुराष्ट्र ट्रेंड कराया.

लेकिन देश का कथित सेक्यूलर व लिबरल वर्ग, खान मार्किट गैंग आदि छत्रपति शिवाजी महाराज की शपथ दोहराए जाने को लेकर सुरेश चव्हाणके जी की न्यायिक लिंचिंग करने पर आमादा हैं. इस वर्ग ने पहले सुरेश जी के विरुद्ध सोशल मीडिया पर ट्रेंड कराया. लेकिन वहां जब इन्हें मात मिली तो दिल्ली पुलिस कमिश्नर को पत्र लिख सुरेश जी के विरुद्ध एक्शन की मांग की गई.

सुरेश जी ने जो शपथ हिंदी में ली थी, उसे अपने मन मुताबिक गलत ट्रांसलेट करके ये वर्ग किसी भी हालात में सुरेश जी को निशाना बनाना चाहता है. जब दिल्ली पुलिस ने सुरेश जी की शपथ में कुछ भी गलत नहीं पाया तो अब ये लीग न्यायलय से एक षड्यंत्र के तहत सुरेश जी की आवाज को कुचलने की कोशिश कर रहे हैं.

खबर के मुताबिक, दिल्ली की एक अदालत ने सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके के खिलाफ हिंदू युवा वाहिनी द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कथित रूप से अभद्र भाषा और धर्म के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देने के लिए दायर याचिका पर सुनवाई करने का निर्णय किया है. अदालत ने सुनवाई 27 जनवरी तय की है.

वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष सैयद कासिम रसूल इलियास द्वारा सीआरपीसी की 156 (3) के तहत याचिका दायर कर चव्हाणके के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है. साकेत कोर्ट  में दायर याचिका में कहा गया है कि 19 दिसंबर 2021 को हिंदू युवा वाहिनी द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम आयोजित किया गया. याचिका में आरोप लगाया गया है कि चव्हाणके जी को लोगों के एक समूह को भारत को एक हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए मरने और मारने की शपथ दिलाते हुए देखा गया है.

याचिका में यह भी कहा गया है कि उसने पुलिस व अन्य को चव्हाणके के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए शिकायत दी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई है. ऐसे में पुलिस को मामले में प्राथमिकी दर्ज कर सुरेश चव्हाणके के खिलाफ उनके भड़काऊ बयानों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया जाए.

सुरेश जी के विरुद्ध उस बात के लिए एक्शन की मांग की जा रही है, जो उन्होंने कही ही नहीं. अपने झूठ व् फर्जी आरोपों के कारण हर तरफ से हताश होने के बाद ये वर्ग अब सुरेश जी की न्यायिक लिंचिंग का प्रयास कर रहा है. इस पर सुरेश जी ने कहा है कि वह धर्म पथ पर चल रहे हैं. ये लोग कितने भी षड्यंत्र कर लें, लेकिन अंतिम विजय धर्म की ही होगी.

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार