सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

अक्षरशः मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अपेक्षाओं पर खरा उतरती जिला बलरामपुर पुलिस.. SP देवरंजन वर्मा के एक्शन से भ्र्ष्टाचारी घुटनो के बल

बलरामपुर पुलिस प्रमुख का भ्र्ष्टाचार पर कड़ा और सख्त वार.

राहुल पांडेय
  • Jun 25 2020 10:17AM
उत्तर प्रदेश के जिला बलरामपुर के पुलिस बल का नेतृत्व कुछ समय पहले जिस उम्मीद व आशा के साथ योगी सरकार ने IPS देवरंजन वर्मा को सौंपा था उस पर अक्षरशः व कहना गलत नहीं होगा कि शत प्रतिशत खरे उतरने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं पुलिस अधीक्षक बलरामपुर देवरंजन वर्मा.. आचार्य चाणक्य के कथनानुसार "यदि गद्दारों की टोली में खलबली मच गई हो तो इसका अर्थ है कि शासक सही नियमानुसार शासन कर रहा है".. यकीनन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वयं एक सन्यासी हैं तो उन्हें इस बात का पूरा भान होगा कि किस प्रकार से जिला बलरामपुर में अपराधियों के हर अंग पर एक एक कर के चोट की गई है ips देवरंजन वर्मा के नेतृत्व में..

अपराध के तमाम अंगों में किसी भी सत्ता के सम्मान का सबसे बड़ा सिरदर्द माना जाने वाला भ्र्ष्टाचार भी शामिल है जिसको काबू करना किसी भी शासक व प्रशासक के लिये आसान नहीं होता है..लेकिन उसी भ्र्ष्टाचार के दानव से लड़ने का जो माद्दा बलरामपुर पुलिस के प्रमुख ने दिखाया है वो साहसिक के साथ सराहनीय भी है..

वर्तमान समय मे नेपाल से लगी सीमाओं पर नेपाल की हरकतें चिंता का विषय हैं.. उसी नेपाल से सटी एक लंबी सीमा पर निगरानी का दायित्व भी बलरामपुर पुलिस निभा रही है और वर्तमान समय मे वो सीमा न सिर्फ अंतराष्ट्रीय तनाव से मुक्त है बल्कि सीमा पार तस्करी इत्यादि के लिए भी लक्ष्मण रेखा बन चुकी है.. वजह प्रदेश पुलिस का केंद्रीय बल SSB के साथ अभूतपूर्व तालमेल भी है जो इस से पहले इतने सार्थक रूप में कभी नही दिखा था... ये तब ही संभव हो पाया जब पुलिस अधीक्षक ने कर्म ही पूजा है कि सिद्धांत को एक एक पुलिसकर्मी के दिमाग मे ठीक से बिठा दिया..

फिलहाल ताजा समाचार मिलने तक एक बार फिर से पुलिस अधीक्षक बलरामपुर ने कठोर कार्यवाही की है भ्र्ष्टाचार की जड़ पर.. बलरामपुर पुलिस द्वारा जारी प्रेसनोट के अनुसार जनपद बलरामपुर में भ्रष्टाचार, दुर्व्यवहार और अनुशासनहीनता में लिप्त पुलिसकर्मियों पर कठोर कार्यवाही की गई है. मिली जानकारी के अनुसार दिनांक 24 जून, 2020 को  जनपद बलरामपुर के थाना गौरा चौराहा की कुछ ऑडियो क्लिप्स पुलिस अधीक्षक बलरामपुर के संज्ञान में आईं थीं. इस ऑडियो क्लिप में कुछ पुलिसकर्मियों द्वारा फर्जी ढंग से अभियोग में धाराएँ बढ़ाने के लिए एक व्यक्ति से धनराशि की माँग की जा रही थी। 

इस गंभीर भ्रष्टाचार के कृत्य पर तत्काल कठोर कार्यवाही करते हुए पुलिस अधीक्षक बलरामपुर के नेतृत्व व निर्देशन में प्रथम दृष्टया दोषी पाए गए थाना प्रभारी गौरा चौराहा संतोष कुमार सरोज, हेड कांस्टेबल राम प्रगट मिश्रा और कांस्टेबल निगम सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित करके उनके खिलाफ विभागीय जाँच शुरू कर दी गई.. अक्सर कहा जाता है कि चिराग तले अंधेरा होता है लेकिन बलरामपुर पुलिस इस कयावद को बदलने के लिए ताबड़तोड़ एक्शन में है.. इसी के चलते पुलिस विभाग में भ्रष्टाचार, दुर्व्यवहार और अनुशासनहीनता के आदी हो गए पुलिसकर्मियों को चिन्हित करके उनके खिलाफ अनवरत कार्यवाहियां जारी रहीं. 

 उपरोक्त तीन पुलिसकर्मियों के निलंबन के उपरांत जनपद बलरामपुर में ही निम्नलिखित कार्यवाहियां की गईं:

1. थाना जरवा के सब इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह की ड्यूटी के दौरान शराब पीने की लत की शिकायत पर उनकी लाइन हाजिरी के उपरांत विभागीय जाँच खोली गई है.

2. थाना रेहरा बाज़ार के SI राजेन्द्र प्रसाद यादव को थाने पर आने वाले पीड़ितों के साथ दुर्व्यवहार की शिकायत पर लाइन हाजिर करके उनके खिलाफ विभागीय जाँच खोली गई है।

3. थाना ललिया के दरोगा रमेश कुमार मिश्रा के ऊपर एक अभियोग की विवेचना में रिश्वत लेने के आरोप पर उनको निलंबित करके उनके खिलाफ विभागीय जाँच प्रारम्भ की गई है।


4. थाना गौरा चौराहा के सिपाही अजय सिंह पर भ्रष्टाचार और दुर्व्यवहार के आरोप पर उसकी लाइन हाजिरी के उपरांत विभागीय जाँच प्रारम्भ की गई।

5. थाना पचपेड़वा के कांस्टेबल योगेश कुमार पासवान और क्षेत्राधिकारी तुलसीपुर के कार्यालय के आरक्षी सुकेश सिंह पर अवैध तरीके से आरा मशीन पर लकड़ी के बोटे चिरवाने के आरोप पर इन दोनों को लाइन हाजिर किया गया और इनके खिलाफ विभागीय जाँच प्रारम्भ की गई है।

6. थाना कोतवाली देहात के आरक्षी विकास मिश्रा पर भ्रष्टाचार के आरोप पर लाइन हाजिरी के उपरांत विभागीय जाँच प्रारम्भ की गई।

7. थाना रेहरा बाज़ार के दो आरक्षियों को बैंक ड्यूटी में लापरवाही और अनुशासनहीनता के आरोप पर पुलिस लाइन्स में अर्दली कक्ष में पेश होने के लिए आदेशित किया गया। इन दोनों आरक्षियों के साथ ड्यूटी से गायब मिले दो होम गार्ड्स के खिलाफ कार्यवाही के लिए जिला होम गार्ड कमांडेंट से पत्राचार किया गया।

बतौर बलरामपुर पुलिस उत्तर प्रदेश शासन की मंशानुरूप भ्रष्टाचार, दुर्व्यवहार और अनुशासनहीनता के खिलाफ जीरो टॉलरेन्स की नीति का बहुत कठोरता से अनुपालन करवाया जाएगा। पुलिस अधिक्षक की इस कठोर कार्यवाही के बाद जनपद में न सिर्फ अपराधियो में हड़कंप है बल्कि पुलिस विभाग के भी सुस्त, लापरवाह स्टाफ़ भी अब सक्रिय नजर आ रहे हैं.. यद्द्पि बलरामपुर जनपद से फिलहाल ऐसी कोई घटना प्रकाश में नही आई जो सत्ता के लिए शर्मिंदगी की वजह बनी हो , पर SP बलरामपुर के कड़ें तेवरों से स्थानीय जनता का विश्वास अपने रक्षक पुलिस बल के लिए और मजबूत हुआ है..

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार