सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

Gujarat New CM Cabinet Minister: गुजरात में गठित हुई नई कैबिनेट.. ये 24 नेता होंगे CM भूपेंद्र पटेल के मंत्री

गुजरात में भूपेंद्र पटेल सरकार के नए मंत्रीमंडल का शपथ ग्रहण समारोह पूरा हो गया है। कुल 23 मंत्रियों ने पद और गोपनीयता की शपथ ली है। शपथ के बाद मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले सभी विधायकों को मुख्यमंत्री ने बधाई दी है

Abhinya
  • Sep 16 2021 2:42PM

शपथ समारोह से पहले सर्किट हाउस में सीक्रेट मीटिंग हुई है।जिसमे सीएम भूपेंद्र पटेल, प्रदेश अध्यक्ष सी आर पाटिल के बीच बैठक में गुजरात बीजेपी के प्रभारी भूपेंद्र यादव भी शामिल हुए। जो विधायक मंत्री बनेंगे उनकी लिस्ट इस प्रकार है, जीतू वाघणी , भावनगर पश्चिम मोहनभाई डोडिया , महुवा, सूरत ऋषिकेश पटेल , विसनगर गजेन्द्रसिंह परमार, प्रान्तिज विनुभाई मोरडिया , कतारगाम, सूरत मनीषा वकील, वडोदरा सिटी अरविन्द रैयानी , राजकोट पूर्व हर्ष संघवी , मजूरा, सूरत देवा मालम , केशोद जगदीश पांचाल , निकोल कुबेर डिंडोर , संतरामपुर कनुभाई देसाई , पारडी प्रदीप परमार , असारवा कीर्तिसिंह झाला , कांकरेज राघवजी पटेल, जामनगर ग्रामीण आर सी मकवाना महुवा, भावनगर नरेश पटेल, गणदेवी जीतू चौधरी , कापरड़ा बृजेश मेरजा , मोरबी किरीटसिंह राना, लीमडी। 

गुजरात में भूपेंद्र पटेल सरकार के नए मंत्रीमंडल का शपथ ग्रहण समारोह पूरा हो गया है। कुल 23 मंत्रियों ने पद और गोपनीयता की शपथ ली है। शपथ के बाद मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले सभी विधायकों को मुख्यमंत्री ने बधाई दी है। इस बार पुराने मंत्रिमंडल के अधिकतर नए चेहरे शामिल किए गए हैं। इससे पहले भाजपा की गुजरात इकाई के प्रभारी भूपेंद्र यादव नए मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने वाले लोगों के नाम तय करने के वास्ते पिछले दो दिनों से गांधीनगर में लगातार बैठकें कर थे। मुख्यमंत्री पद से विजय रूपाणी के गत शनिवार को अचानक इस्तीफा देने के बाद सोमवार को भूपेंद्र पटेल ने नए मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी।

आपको बता दें BJP ने  कांग्रेस से आए तीन चेहरों को भी मौका दिया है। चार मंत्रियों गजेंद्र भाई, राघवभाई मकवाना, विनु भाई मोरडिया, अमर, देवाभाई पुंजा भाई मालम ने एकसाथ शपथ ली। विनुभाई मोरडिया 2017 में पहली बार विधायक बे हैं। गजेंद्र सिंह परमार 43 साल के हैं और प्रांतिज सीट से विधायक हैं और पहली बार मंत्री बने हैं। । आरसी मकवाना 36 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने और बीजेपी का युवा चेहरा माने जाते हैं। भावनगर की महुवा सीट से विधायक हैं।

साथ ही पांच और मंत्रियों ने एकसाथ शपथ ली जिसमे मुकेश भाई पटेल, निमीषा बेन, अरविंद भाई रयानी, कुबेर भाई, कीर्ति प्रह्लाद सिंह वाघेला ने चौथे क्रम में एक साथ शपथ ली है। मुकेश पटेल दो बार विधायक रहे हैं। ओल्पद सीट से विधायक हैं। कुबेर डिंडोर संतरामपुर सीट से विधायक हैं और पहली बार राज्य सरकार में मंत्री बन रहे हैं। बता दें, अरविंद रैयाणी 2017 में पहली बार विधायक बने। कीर्ति सिंह 2017 में कांग्रेस से विधायक बने थे और बाद में बीजेपी में शामिल हो गए।

युवा नेताओं की टीम में उदय सिंह चौहान, कनु भाई देसाई , नरेश भाई पटेल, अर्जुन सिंह सहित पांच मंत्रियों ने भी एक साथ शपथ ली। कनुभाई देसाई पारसी सीट से विधायक हैं और दो बार विधायक रहे हैं। वहीं किरीट सिंह राणा पहले भी गुजरात सरकार में दो बार कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। कनु देसाई को साफ सुथरी छवि वाले नेता के तौर पर जाना जाता है। किरी सिंह राणा उप चुनाव में चुनाव जीते हैं। नरेश पटेल आदिवासी नेता है। प्रदीप परमार दलित नेता है, हालांकि उनका नाम स्थानीय पुलिस के साथ विवादों से भी जुड़ा हुआ है। हालांकि बाद में उन्होंने सिपाही से माफी भी मांगी थी। अर्जुन सिंह बेहद सादगी भरे अंदाज के लिए जाना जाता है।

राउपुरा से विधायक राजेंद्र त्रिवेदी रूपाणी सरकार में स्पीकर थे। रूपाणी सरकार में खेल मंत्री रह चुके हैं। दो बार विधायक रह चुके हैं। ईश्वरलाल मोदी भी पहले बार मंत्री बने हैं। पूर्णेश मोदी वो शख्स है जिन्होंने राहुल गांधी पर केस किया था, जिस वजह से राहुल गांधी को सूरत केस में पेश होना पड़ा था। ऋषिकेश पटेल उत्तर गुजरात से आते हैं जिन्हें नितिन पटेल की जगह पेश किया जा रहा है। प्रदीप परमार दलित नेता हैंं। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें सबसे पहले राजेंद्र सूर्य प्रसाद त्रिवेदी  जितेंद्र वघानी, सीतेश भाई पटेल, ऋषिकेश पटेल सहित पांच मंत्रियों ने एक साथ ली शपथ ली। गुजरात में शपथ ग्रहण समारोह के बाद शाम 4.30 बजे पहली कैबिनेट बैठक होगी। गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा इसकी जानकारी दी गई है। 

बता दें नए सीएम भूपेंद्र पटेल को गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश की वर्तमान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का करीबी माना जाता है। उन्हें मुख्यमंत्री बनाये जाने के पीछे यह भी एक कारण माना जा रहा है। ऐसे में जब दिसंबर 2022 में राज्य विधानसभा चुनाव होने की उम्मीद है, भाजपा ने चुनाव में जीत के लिए पटेल पर भरोसा जताया है, जो कि एक पाटीदार हैं।

लोगों का मानना है कि पुराने चेहरों को जगह न दिया जाने का यह फार्मूला 2022 विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रस्तावित किया गया है क्योंकि दो दशक से ज्यादा वक्त से गुजरात में सत्ता में रही भाजपा साफ-सुथरी छवि के साथ मतदाताओं के बीच जाना चाहती है। राज्य में अगले साल होने वाले चुनावों में चुनावी जीत के लिए भाजपा पाटीदार पटेल पर भरोसा कर रही है। घाटलोदिया से पहली बार विधायक भूपेंद्र पटेल ने सोमवार को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। कयास लगाए जा रहे हैं कि भूपेंद्र पटेल की कैबिनेट में सभी नए चेहरे होंगे। यह भी संभावना है कि युवा विधायकों को कैबिनेट में शामिल किया जाएगा।

 

 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार