सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

Ganga Expressway : मेरठ और बलिया का गठजोड़ करेगा ..... देश का सबसे लम्बा एक्सप्रेसवे बनेगा गंगा एक्सप्रेसवे

अगले महीने दिसंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के सबसे लंबे एक्सप्रेसवे गंगा एक्सप्रेसवे का शिलान्यास करेंगे। इस पूरे चरण में सरकार का दावा है कि 94 प्रतिशत भूमि का क्रय किया जा चुका है। मेरठ में कृषि विश्वविद्यालय में शिलांयास कार्यक्रम को किया जाना संभावित है।

Prem Kashyap Mishra
  • Nov 17 2021 7:31PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिसंबर माह में शाहजहांपुर आ सकते हैं। वह जलालाबाद विधानसभा क्षेत्र में सभा के साथ ही गंगा एक्सप्रेस वे पर हवाई पट्टी का शिलान्यास करने के साथ ही कई अन्य सौगात भी दे सकते हैं। विधानसभा चुनाव की तैयारियों के साथ ही भारतीय जनता पार्टी का फोकस इस इन बार उन सीटों पर भी ज्यादा है जहां पिछले चुनाव में हार मिली थी। जलालाबाद की सीट समाजवादी पार्टी के खाते में गई थी।विधानसभा चुनावों की आचार संहिता में लगभग एक-दो महीने का समय बचा है।

अगले महीने दिसंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के सबसे लंबे एक्सप्रेसवे गंगा एक्सप्रेसवे का शिलान्यास करेंगे। इस पूरे चरण में सरकार का दावा है कि 94 प्रतिशत भूमि का क्रय किया जा चुका है। मेरठ में कृषि विश्वविद्यालय में शिलांयास कार्यक्रम को किया जाना संभावित है। 

बता दें पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के लोकार्पण के बाद अब मेरठ से बिहार तक का सफर भी अगले चार वर्षों में आसान हो जाएगा। मेरठ से प्रयागराज तक बनाए जाने वाले गंगा एक्सप्रेसवे को बलिया तक बनाया जाना है। बलिया से बिहार राज्य की सीमा शुरू हो जाती है। प्रदेश सरकार का लक्ष्य है पश्चिम से पूर्व तक की दूरी एक्सप्रेसवे के माध्यम से पांच से छह घंटे में पूरी हो सके। इसके लिए यूपीडा ने एक्सप्रेसवे का जाल बिछा दिया है। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे को उन्नाव में गंगा एक्सप्रेसवे से लिंक किया जाएगा।

गंगा एक्सप्रेसवे का सबसे अधिक एलाइनमेंट उन्नाव में ही है। इसके अलावा गंगा एक्सप्रेसवे से सात अन्य हाइवे भी लिंक हो रहे हैं।   गंगा एक्सप्रेसवे के लिए मेरठ में नौ गांवों की 181 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जाना है। मेरठ में भूमि क्रय की प्रक्रिया लगभग पूरी की जा चुकी है। अब मात्र 23 हेक्टेयर भूमि को क्रय किया जाना है। इसके लिए सामाजिक आद्यात की रिपोर्ट भी तैयार कर ली गई है। जिससे किसानों के बीच जाकर उन्हें एक्सप्रेसवे की खासियत बताई जा सके। गंगा एक्सप्रेसवे मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अमरोहा, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़, प्रयागराज शहरों को शामिल किया गया है। 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

ताजा समाचार