सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

आंदोलन कर रहे किसान नेताओं से मिले पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला। संसद के बाहर करेंगे प्रदर्शन, किया ऐलान

किसानों के बीच बैठ कर चौटाला ने किसान आंदोलन को हवा देने की कोशिश की और तीन कृषि कानूनों को लेकर सरकार के खिलाफ रणनीति पर भी चर्चा की

Geeta
  • Jul 21 2021 6:30PM

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने प्रदर्शनकारी किसानों से मुलाकात की  बुधवार को पूर्व सीएम ओपी चौटाला दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर के पास पहुंचे। यहां केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन चल रहा है किसानों के बीच बैठ कर चौटाला ने किसान आंदोलन को हवा देने की कोशिश की और तीन कृषि कानूनों को लेकर सरकार के खिलाफ रणनीति पर भी चर्चा की।

आपको बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला शिक्षक घोटाला मामले में इसी महीने की शुरुआत में जेल से रिहा हुए थे. जो कि अब पुरे फॉर्म में आते हुए दिखाई दे रहे हैं. ओम प्रकाश चौटाला उनके बेटे अजय चौटाला और कई अन्य लोगों को साल 2000 में तीन हजार से ज्यादा जूनियर बेसिक शिक्षकों की गैर कानूनी तरीके से भर्ती करने के मामले में 10 साल की सजा सुनाई गई थी। 

सरकार ने अपने एक आदेश में कहा था कि जिन कैदियों ने अपनी दस साल की सजा के साढ़े नौ साल पूरे कर लिए हैं उन्हें छह महीने की विशेष छूट देकर जेल से रिहा कर दिया जाएगा। यह फैसला कोरोना महामारी को देखते हुए लिया गया था। ओम प्रकाश चौटाला ने अपनी सजा के नौ वर्ष नौ माह पूरे कर लिये थे। जिसके बाद उन्हें रिहा कर दिया गया।

ओम प्रकाश चौटाला ने यहां कहा कि विपक्षी सांसद गुरुवार को संसद भवन का घेराव करेंगे। यह सांसद किसानों के समर्थन में यह घेराव करेंगे और सरकार से तीनों कृषि कानून को जल्द से जल्द वापस लेने की मांग करेंगे। ओम प्रकाश चौटाला ने बहादुरगढ़ के बाईपास पर आंदोलन स्थल पर एक सभा को संबोधित करते हुए सरकार पर निशाना भी साधा।

किसानों से मिलने के बाद  उन्होंने आगे कहा कि चुनी हुई सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि जनहित के कार्यों में रूचि ले, लेकिन दिक्कत यह है कि जब सत्ता गलत लोगों के हाथ में आ जाती है तो सत्ता में बैठे लोग उसका दुरुपयोग करते हैं। नतीजा यह होता है कि जनता के कार्य होते नहीं और फिर जनता बगावत पर उतर आती है। वर्तमान में ऐसा ही हो रहा है। 

ओम प्रकाश चौटाला ने कहा कि वो यहां पर कोई राजनीतिक भाषण देने नहीं आए, बल्कि वे तो इस आंदोलन के लिए बधाई देने और खुशी के लड्डू खिलाने आए हैं। उन्होंने दावा किया कि संघर्ष इसी तरह चलता रहेगा तो निश्चित रूप से तीनों कृषि कानून वापस होंगे। इससे पहले मंगलवार को ओम प्रकाश चौटाला गाजीपुर बॉर्डर भी पहुंचे थे। यहां उन्होंने भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत से मुलाकात के बाद कुछ देर उनके साथ एक कमरे में गोपनीय बैठक भी की थी। कहा जा रहा है कि इस बैठक में किसान आंदोलन को लेकर आगे की रणनीति पर चर्चा की गई थी।  

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार