सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

पाकिस्तान से आये मौलवी ने मुज़फ्फरनगर के जंगलों को कर लिया था कब्जा.. बनवा लिया था मजार और हिन्दू जाने लगे थे उसके दर्शन को

इस साजिशकर्ता को मीडिया का एक वर्ग कहता रहा "तांत्रिक".

Rahul Pandey
  • Nov 22 2020 2:49PM

देश के अन्दर पनप रहे तमाम प्रकार के जिहादो में एक लैंड जिहाद ऐसा गंभीर विषय है जिस पर सुदर्शन न्यूज़ लगातार न सिर्फ आम जनमानस बल्कि सरकार को भी सचेत करता आ रहा है.. कई स्थानो पर जनता भी जागरूक हुई तो कई जगहों पर सरकारों ने भी क़ानून कड़े किये लेकिन उसके बाद भी साजिशकर्ताओं की कहीं न कही से आये दिन ऐसी खबर आ ही जाती है जो इस मामले में सत्ता को और कड़े कदम उठाने की जरूरत पर बल देती है. 

एक ऐसा ही सनसनीखेज मामला आया है उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फरनगर जिले से. यहाँ के भोपा थाने के बिहारगढ़ गांव से एक ऐसा मामला सामने आया है, जो सुदर्शन न्यूज़ के लैंड जिहाद पर किये जा रहे तमाम दावों पर एक मुहर के जैसा है. 

बता दें यहां एक झोपडी में रह कर खुद को गरीब और बेसहरा दिखाने वाला मौलवी असल में कुछ और ही निकला और खुशहाल नाम के उस मौलवी ने कुछ ही वर्षो के अन्दर वन विभाग की सैकड़ो बीघा जमीन पर कब्ज़ा कर के अन्दर ही अन्दर एक बड़ी मजार खड़ी कर ली है.. 

इसी के साथ वो धीरे धीरे इतना प्रभावशाली बन बैठा कि जिले के जिलाधिकारी को भी अन्दर जाने की अनुमति नहीं थी...यहाँ सबसे ज्यादा गंभीर बात ये है कि खुशहाल पाकिस्तान का रहने वाला था, जो साल 1964 में भारत आया और देवबंद के दारूल ऊलूम से पढाई कर ये जिला मुज़फ्फरनगर के छोटे से गांव बिहारगढ़ पंहुचा... 

जहां उसने अपनी झाड़ फूंक को बेहद प्रभावशाली बताकर लोगों से मोटी कमाई करनी शुरू कर दी.... इतना ही नहीं विदेशों से भी लोग इसके पास झाड़ फूंक करवाने आने लगे...अंधविश्वास और मजहब की आड़ में शुरू हुए इस खेल में जब भीड़ बढ़ने लगी तो कम जगह का बहाना बनाकर उसने सरकारी ज़मीन हड़पने का खेल शुरू कर दिया...

यहाँ ये भी अभी तक तय नहीं है कि इस स्थान पर सिर्फ झाड फूंक ही होती है या कुछ और भी काले कारनामे यहाँ से अंजाम दिए जाते हैं और इस मामले में  मुज़फ्फरनगर प्रशासन को भी क्लीन चिट नहीं दी जा सकती है क्योकि उसी से सांठगांठ कर के मौलवी खुशहाल ने 6.5 हेक्टेयर भूमि को 30 साल की लीज पर ले लिया....

लीज पर ली गई जमीन में से 12 बीघे जमीन की घेराबंदी कर उसमे वड़ी मजार बनवाकर ऊँची ऊँची चार दिवारी खड़ी कर उसे एक किले में तब्दील कर लिया... और वह इतना चर्चित हो गया विदेशो से भी लोग यहाँ पहुंचने लगे साथ साथ विदेशों से फंडिंग होने लगी और दर्जनों बड़ी बड़ी गाड़िया किले के अन्दर खड़ी होने लगी और खुशहाल सैकड़ों गाडियों के काफिले के साथ देश के अन्य राज्यों में जलसे करने लगा...

इस पूरे मामले में सबसे ज्यादा गौर करने योग्य जो बात है वो ये है कि मीडिया के कुछ वर्ग पाकिस्तान से आये और यहाँ की जमीन को हडप रहे इस मौलवी खुशहाल को तांत्रिक शब्द से सम्बोधित कर रहे हैं और इसके द्वारा फैलाए जा रहे ढोंग को तंत्र मन्त्र का नाम दे कर हिन्दू समाज की पवित्र परम्पराओं को बेवजह बदनाम कर रहे हैं..   

देखिये इस मुद्दे पर पूरा बिंदास बोल-




सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार