सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

अंबाला में हिंदुओं के ब्राह्मण परिवार पर हुए उन्मादी हमले के बाद अब तक फैला है खौफ़.. गर्भवती महिला तक को घसीटा गया था. SP अंबाला IPS हामिद अख़्तर की कार्यवाही से असंतोष

पीड़ित ब्राह्मण परिवार अभी तक जी रहे भय के माहौल में..

सुदर्शन न्यूज़ डेस्क
  • Jun 13 2021 6:26PM
इस गांव के नाम में स्वयं ब्राह्मण शब्द जुड़ा हुआ है और इसका पूरा नाम खानपुर ब्राह्मणा है। यह हरियाणा और पंजाब के सीमावर्ती क्षेत्र में आता है और इस गांव में कभी मुस्लिम आबादी न के बराबर हुआ करती थी जो अचानक ही बाकी देश के अनुसार ही तेजी से बढ़ी।

अचानक से एक शाम को एक उन्मादी भीड़ इस गांव के ब्राह्मण परिवारों की तरफ बढ़ती है और उस भीड़ में महिला पुरुष दोनों शामिल होते हैं । ये था 29 मई 2021 का दिन और समय था लगभग रात 8 बज कर 30 मिनट.. सबकी जुबान पर मारो मारो काटो काटो के नारे सुनाई देने लगते हैं।

जिस एक ब्राह्मण परिवार में या भीड़ घुसती है उसमें जो कोई भी मिलता है उसे पीटा जाता है। नफरत की चिंगारी यहां तक भर्ती रहती है कि गर्भवती महिला भी उनसे बच नहीं पाती और उसे घसीट कर मारा जाता है। इसकी शिकायत बाकायदा स्थानीय पंजोखरा थाने में सुरेंद्र कुमार द्वारा की जाती है..

इस FIR की संख्या 0063 है.. जब इस मामले की शिकायत स्थानीय थाने पर की जाती है तो वहां से शुरू में मुकदमा दर्ज करने से ही मना कर दिया जाता है। जैसे तैसे येन केन प्रकारेण जब पीड़ित रो रो कर अपनी व्यथा बताते हैं तो पीड़ित पक्ष के ही 2 लोगों को दबाव बनाने के लिए बिठा लिया जाता है।

यह ध्यान रखने योग्य जरूर है कि इस जिले के पुलिस अधीक्षक आईपीएस हामिद अख्तर है और उनके नेतृत्व में स्थानीय थाना पुलिस ने ऐसा व्यवहार क्यों किया यह निश्चित मंथन का विषय जरूर होना चाहिए।

हामिद अख्तर पुलिस अधीक्षक अंबाला खट्टर सरकार की गुड लिस्ट में है लेकिन गांव खानपुर ब्राह्मणों में जो कुछ भी हुआ वह गुड किसी हालत में नहीं कहा जा सकता। जब यह विषय स्थानीय मीडिया द्वारा उठाया गया तब मजबूरन इस मामले में पुलिस को मुकदमा दर्ज करना पड़ा।

अंतिम समाचार मिलने तक 5 गिरफ्तारियां की जा चुकी है लेकिन दर्जनों की उस भीड़ में मात्र 5 गिरफ्तारियां सिर्फ ऊंट के मुंह में जीरे का काम करेंगे। इस घटना ने हरियाणा में आने वाले भैया वाह कल के संकेत दिए हैं।

पीड़ित परिवार अभी भी इस घटना से सदमे में है और अपने व अपने परिजनों की सुरक्षा को लेकर लगातार चिंतित है। यह ध्यान रखने योग्य है कि अब इस गांव में मस्जिद का भी निर्माण हो चुका है जबकि गांव की कुल मुस्लिम आबादी मूलत: दो परिवारों से निकली बताई जाती है।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार