सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

नाज़िम से निकाह के पहले बेहद धर्मनिरपेक्ष थी दिव्या.. अब उसे याद आ रहे बजरंग दल वाले

दिव्या ने नाजिम से किया निकाह जीवन बना नर्क, ‘इस्लाम में भाई की बीवी के साथ अन्य भी होते हैं हमबिस्तर...

Shiv Kumar
  • Mar 7 2021 6:02PM

उत्तर प्रदेश की दिव्या को शायद निकाह करने से पहले इस्लाम के नियमों का पता नहीं होगा, पर अब वो इस्लाम का एक भी नियम भूल नहीं पायेगी। इस्लाम के नियय के नाम पर जो सामूहिक बलात्कार की रणनीति चलाई जाने की कोशिश की जा रही था, दिव्या ने अब उसके खिलाफ मामला दर्ज कराया है। और इस नर्क से निकालने की गुहार लगाई है। 

भाई की बीवी के साथ अन्य भाइयों को सेक्स करने का अधिकार

दरअसल मामला उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद का है जहां एक महिला ने अपने जेठ पर शारीरिक संबंध के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है। महिला ने बताया कि उसके शौहर का बड़ा भाई यह कहकर कि हम मुसलमानों में एक भाई की बीवी के साथ अन्य भाइयों को सेक्स करने का अधिकार है, रोजाना उसके साथ सोने का दबाव बनाता है। पीड़िता के मुताबिक वह कई बार उसके साथ अश्लील हरकतें कर चुका है। अब उसने पुलिस में मदद की गुहार लगाई है। 

नाम बदलकर दिव्या से कर लिया था शबा 

बता दें कि पीड़िता का नाम नाम दिव्या यादव  है, वह सेवानिवृत्त दीवान केपी सिंह की पुत्री है। उसने साल 2019 में कोतवाली फर्रुखाबाद के मोहल्ला सुतहटी निवासी मोहम्मद नाजिम सिद्दीकी से लव मैरिज की थी। निकाह के बाद उसने अपना नाम बदलकर दिव्या से शबा कर लिया था।

जेठ राशिद के साथ उसकी बीवी भी रहती थी शामिल

पीड़िता ने बताया कि उसका जेठ राशिद कहता था कि, “हम मुसलमानों में एक भाई की बीवी के साथ अन्य भाइयों को भी शारीरिक संबंध बनाने का अधिकार है, इसलिए तुम्हें मेरे साथ सेक्स करना पड़ेगा”। दिव्या यादव ने बताया कि जब विरोध किया तो उसके साथ मारपीट की गई। पीड़िता के मुताबिक इसमें राशिद की बीवी नौरीन भी शामिल रही।

पीडिता ने बताया कि राशिद कभी भी मुझे मार सकता है, 3 मार्च राशिद ने कहा कि मेरे साथ सेक्स करो तब उसने मेरे पति को भी जान से मारने की धमकी दी कि विधवा हो जाने के बाद तो मेरे साथ सोएगी। दिव्या ने एसपी को बताया कि मुझे व मेरे पति को जेठ जेठानी से जानमाल का खतरा है।

दिव्या की हालत देखकर समाज को इस विशेष धर्म के नियम कानून के बारे में पता चल गया होगा, किस तरह यहां एक महिलाओं का प्रयोग एक वस्तु की तरह किया जाता है। जो दिव्या कभी धर्म से ऊपर उठकर बात करने को बोलता थी, आज धर्मो का फर्क उसे समझ आ रहा है। समाज को इस जिहादी सोच का ध्यान रखना चाहिए ताकि किसी दूसरी बेटी को ऐसे नर्क में जाना न पड़े।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

1 Comments

Glorified secularism of Gandhi, Ram - Rahim or one and the same. Teach Islam in schools and colleges, the same subject they can marry 4 wives. A wife can be shared in the family. She is not marrying her Muslim husband. When she says Qabool, it is a contract agreed to be his property, he can do whatever he wants with her. If she is educated does not know about it, then it is her & her parent''s problem. Why she did not discuss her parents about her marriage to Muslim?

  • Guest
  • Mar 9 2021 6:36:58:637AM

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार