सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

योगीराज का वो जिला जहां गौ तस्कर और गौ हत्यारे थाने में लगाते हैं हाजिरी और बताते हैं कि - "साहब हम सुधर गए"

जानिए वो कौन सा जिला है उत्तर प्रदेश का जहां सुरक्षित है गौ वंश.

Rahul Pandey
  • Jun 29 2020 4:05PM

 चुनाव से पहले जिस राम राज्य की संकल्पना का स्वप्न भारतीय जनता पार्टी में उत्तर प्रदेश की जनता को दिखाया था अब चुनाव के बाद उस राह पर योगी शासन के साथ उनके प्रशासन ने मजबूती से कदम बढ़ा दिए हैं.. इन्ही में सबसे प्रमुख जिला धर्मनगरी अयोध्या है जहां के पुलिस प्रशासन की बागडोर इस समय IPS आशीष तिवारी के हाथों में है.. चाहे 3 तलाक का मामला हो, चाहे धारा 370 उन्मूलन हो, चाहे CAA NRC प्रदर्शन हो और चाहे अब कोरोना काल हो.. क्या मजाल कि पत्ता भी हिला हो जनपद अयोध्या में.. एक कुशल सेनापति के समान अरविंद चौरसिया , प्रियंका पांडेय जैसे योग्य अधीनस्थों के साथ उनके कार्य की सराहना पूर्व DGP विक्रम सिंह ने भी की थी और उन्हें अलंकृत करने योग्य बताया था..

इसके साथ अब जो नया आदेश जारी हुआ है अपराध के साथ साम्प्रदायिक तनाव की मूल जड़ गौ हत्या के निवारण हेतु वो तो रिकार्ड स्थापित कर रहा है.. जहां अम्बेडकरनगर, बुलंदशहर जैसे जनपदों से सत्ता के सम्मान लायक कार्य नही हुए तो वहीं जनपद अयोध्या के कार्यो ने निश्चित तौर पर योगी सरकार का सम्मान व मान दुनिया भर में फैलाया है क्योकि अयोध्या में आने वाले दुनिया भर के यात्री व प्रतिनिधि यहां सुरक्षा व सुविधा के अभूतपूर्व रूप को देख कर उसकी चर्चा पूरी दुनिया भर में करते हैं.. उसी जनपद अयोध्या की पुलिस ने एक बार फिर से गौ तस्करों व गौ हत्यारो के खिलाफ  जारी किया है वो आदेश जो न सिर्फ गौ तस्करी व गौ हत्या को जिले से लगभग समाप्त कर दिया है बल्कि अन्य सभी अपराधों के लिए एक खतरे की घन्टी बजा दी है..

अयोध्या पुलिस द्वारा दिनांक 20-06-2020 को जारी किए गए प्रेसनोट के अनुसार अब थाने में हाजिरी लगायेंगे गोकशी में संलिप्त रहे अभियुक्तगण साथ ही किया जा रहा है उन सभी का विधिवत सत्यापन. मिली जानकारी के अनुसार गोकशी पर रोक लगाने हेतु व अपराध पर अंकुश लगाने के लिए गोकशी में कभी संलिप्त रहे लोगो का भौतिक सत्यापन के आदेश के अनुक्रम में जनपद में गोवध अभियुक्तो का का सत्यापन कर उनका डोजियर भरा जा रहा है। गोवंश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जनपद के समस्त थाना प्रभारीयों व बीट आरक्षीयों द्वारा सभी गोवधिकों का सत्यापन किया जा रहा है, गोवधिको का सत्यापन कराने के आदेश के बाद सभी गोवधिक अपना सत्यापन कराने अपने क्षेत्र के कोतवाली/थाना पहुंच रहे हैं व मौजूद पुलिस अधिकारियों और पुलिस कर्मियों द्वारा उनका सत्यापन कर डोजियर भरा जा रहा है।

 

इसी के साथ - साथ सभी को चेतावनी दिया गया कि अवैध काम न करे, यदि कोई भी व्यक्ति गोवध करते हुए पाया जाएगा तो उसके विरुद्ध गोवध अधिनियम के अनुसार सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी। विगत 05 वर्षो में गोकशी के अपराध में संलिप्त 337 अपराधियों के सत्यापन हेतु चलाये गये अभियान की प्रगति थानावार-

 को0नगर-10,

को0अयोध्या-03,

पूराकलन्दर-11,

गोसाईगंज-02,

महराजगंज-06,

रौनाही-64,

बीकापुर-31,

हैदरगंज-03,

तारून-02,

इनायतनगर-22,

कुमारगंज-04,

खण्डासा-08,

को0रूदौली-68,

मवई-38,

पटरंगा-42

इस अभियान के दौरान कुल 314 अपराधियों का सत्यापन किया गया 

गुण्डा एक्ट के अन्तर्गत- थाना महराजगंज-02,

मवई-03

गैगेस्टर अधि0 के अन्तर्गत- को0बीकापुर-02,

को0रूदौली-02

110 जी द0प्र0सं0 के अन्तर्गत- को0नगर-07

को0अयोध्या-02,

गोसाईगंज-01,

रौनाही-24,

को0बीकापुर-18,

इनायतनगर-18,

कुमारगंज-04,

खण्डासा-02,

को0रूदौली-53 

पटरंगा-34

इस प्रकार कुल 172 कार्यवाही की गयी।

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

कोरोना के कारण पीड़ित गरीब लोगो के लिए आर्थिक सहयोग

Donation
0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें