सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

'छेरछेरा...माई कोठी के धान ला हेर हेरा' से गूंजा छत्तीसगढ़, कटगी सहित कई गाँवों में दिखी रौनक...CM ने कांकेर में मांगा छेरछेरा का दान

राज्यपाल, मुख्यमंत्री, गृहमंत्री समेत कईयों ने दी छेरछेरा की बधाई

योगेश मिश्रा, छत्तीसगढ़ ब्यूरो
  • Jan 28 2021 1:57PM

नये अंग्रेजी वर्ष में छत्तीसगढ़ के पहले त्यौहार छेरछेरा की धूम पूरे छत्तीसगढ़ में दिखाई दे रही है। छत्तीसगढ़ के कांकेर में जहां छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के पारंपरिक त्यौहार छेरछेरा के दौरान लोगों से छेरछेरा त्यौहार पर अन्न दान मांग कर त्यौहार मनाया। वहीं दिनभर छत्तीसगढ़ के ग्रामीण क्षेत्रों में छेरछेरा के दिन व्यापक उत्साह देखा गया।

 

 




बलौदा बाजार जिले के ग्राम कटगी सहित आसपास के कई गांवों में छेरछेरा के दौरान युवाओं में काफी उत्साह देखा गया। दिनभर युवा और बच्चे टोलियाँ बनाकर थैला लेकर के छत्तीसगढ़ के इस पहले परम्परागत त्यौहार के दिन लोगों के घरों में पहुंचे और उनसे अन्न दान मांगा। इस दौरान 'छेरछेरा...कोठी के धान ला माई हेर हेरा' की गूंज पूरे गांवों में सुनाई दी।

 

 



वापस दिखा गायब होता रौनक
गौरतलब है कि कोरोना के कारण पिछले लगभग 10 माह से शहर के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी त्योहारों की रौनक जैसे गायब हो गई है, लेकिन छेरछेरा त्यौहार के दिन ग्रामीण क्षेत्रों में व्यापक उत्साह दिखाई दिया और गलियां गुजार दिखीं। इस दौरान युवाओं की टोलियां ने घर-घर पहुंचकर इस पारंपरिक त्यौहार का लुफ्त उठाया, साथ ही युवाओं को इस दौरान अन्न दान करने वाले लोग भी काफी उत्साहित दिखे। ऐसे में समय के बदलते परिवेश के बीच भी ग्रामीण क्षेत्रों में छेरछेरा को लेकर उत्साह दिखाई दिया, इसने यह बता दिया कि समय भले ही कितना भी बदलता रहे, लेकिन छत्तीसगढ़ के लोग परंपराओं को जीना जानते हैं, उन्हें निभाना जानते हैं।

 

 

 

 



छत्तीसगढ़ का काफी प्रसिद्ध पारंपरिक त्योहार

लोक परंपरा के अनुसार पौष महीने की पूर्णिमा को प्रतिवर्ष छेरछेरा का त्योहार मनाया जाता है। गाँव के युवक घर-घर जाकर डंडा नृत्य करते हैं और अन्न का दान माँगते हैं। धान मिंसाई हो जाने के चलते गाँव में घर-घर धान का भंडार होता है, जिसके चलते लोग छेर छेरा माँगने वालों को दान करते हैं।

 

 

 


‘छेर छेरा ! माई कोठी के धान ला हेर हेरा !’ यही आवाज़ आज प्रदेश के ग्रामीण अंचल में गूंजी और दान के रूप में धान और नगद राशि बांटी जाती है।


सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार