सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

गहलोत, डोटासरा और पुनिया के लिए चुनौती भरे होंगे 4 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव

उपचुनाव से पहले कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टियों में आपसी कलह जारी है

Namit Tyagi
  • Jan 21 2021 7:50PM


4 महीने में 4 विधायकों के निधन से राजस्थान का राजनीतिक माहौल भले ही शोकाकुल है , लेकिन इस वजह से खाली हुई विधानसभा की चार सीटों पर उपचुनाव के लिए कांग्रेस और बीजेपी में अंदर ही अंदर राजनीतिक सरगर्मियां भी शुरू हो गई हैं । आगामी कुछ महीनों में पूनिया की प्रतिष्ठा भी दांव पर रहेगी,पूनिया से भी ज्यादा सीएम गहलोत की साख दांव पर होगी , क्योंकि इनमें से तीन सीटें कांग्रेस के खाते में थीं! उन सीटों पर जीत हासिल करना मौजूदा राजनीतिक माहौल में गहलोत के लिये बेहद चुनौती भरा हो सकता है ।

यह पहला मौका है जब महज 4 महीने में 4 विधायकों का बीमारी के कारण निधन हो गया है . इनमें तीन विधायक कांग्रेस के तो एक बीजेपी के हैं . विधायकों के निधन से खाली हुई भीलवाड़ा की सहाड़ा , चूरू की सुजानगढ़ और उदयपुर की वल्लभनगर सीट कांग्रेस के कब्जे में थी . राजसंमद सीट पर बीजेपी काबिज थी . इन चारों सीटों पर आगामी महीनों में उपचुनाव होंगे । इन सीटों पर अगर फिर से कांग्रेस काबिज नहीं हो पाई तो गहलोत सरकार के कामकाज और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा की क्षमताओं पर सवाल उठने शुरू हो सकते हैं . वहीं , पार्टी में फिलहाल थोड़ा शांत हुआ गुटबाजी का जिन्न फिर बोतल से बाहर आ सकता है ।

बीजेपी अपनी मूल सीट राजसमंद के अलावा अन्य सीटों पर कब्जा नहीं जमा पाई तो उसकी भूमिका और पार्टी के प्रदर्शन पर सवाल खड़े होंगे . बीजेपी में प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया और पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की कथित गुटबाजी को संगठन फिर नये चश्मे से देखेगा और कोई बड़ा निर्णय भी लिया जा सकता है । प्रदेश की 200 सदस्यों वाली राजस्थान विधानसभा की स्थिति देखें तो अब कांग्रेस के पास कुल 107 में से 104 सदस्य रह गये हैं . बीजेपी के पास 71 सीटें हैं . इनके अलावा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और भारतीय ट्राइबल पार्टी के 2-2 विधायक हैं . नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के 3 सदस्य विधानसभा में है . एक सदस्य राष्ट्रीय लोक दल का है . इनके अलावा निर्दलीय 13 विधायक हैं ।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार