सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

Indore में बड़े सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ .... वेबसाइट से लड़कियों की फोटो देखने के बाद होती थी डील

पुलिस को सूचना मिली थी कि स्कीम नंबर 114 में सेक्स रैकेट चल रहा है। पुलिस ने यहां दबिश दी तो यहां से गुरुग्राम की दो युवतियां और रायसेन के करीब सात लड़के मिले। इनसे पूछताछ के बाद पूरे गिरोह का खुलासा हुआ। पुलिस के अनुसार सेक्स रैकेट चलाने वालों ने वेबसाइट बनवाई थी।

Prem Kashyap Mishra
  • Nov 17 2021 5:29PM

इंदौर में एक बड़े सेक्स रैकेट का खुलासा हुआ है बताया जा रहा है की वेबसाइट के जरिए यह सेक्स रैकेट चल रहा था। जहाँ लड़कियों की फोटो देखने के बाद आगे की डील होती थी। इसमें से कई हाई प्रोफाइल लोगों का नाम जुड़ा हुआ है। डिजिटल ज़माने के डिजिटल तरीके से सौदा होता था। बताया जा रहा है कि  पकड़ी गई युवतियों में से अधिकांश दिल्ली की है, जो अलग-अलग जगह नौकरी करती थी। पैसा कमाने के मकसद से उन्होंने यह पेशा चुना। इंदौर सहित मप्र के अन्य शहरों में इस रैकेट के फैले होने की आशंका जताई जा रही है। 

बता दें इंदौर एसपी आशुतोष बागरी के अनुसार वेबसाइट से ही सबकुछ तय होता था। यहीं से सरगना ग्राहक की तलाश करते थे। सौदा पक्का होने पर युवती को कहां व कैसे पहुंचाना है इसकी बात होती थी। गाड़ी और उसके नंबर तक तय किए जाते थे। इंदौर के स्कीम नंबर 114 में फ्लैट किराए से ले रखा था। यहीं से पूरा रैकेट चलता था। पूछताछ के दौरान कुछ लड़कियों ने बताया कि वे दिल्ली में अलग-अलग जगह नौकरी करती थी।

वहां उनके साथ शारीरिक संबंध की कोशिश की गई जिसके बाद उन्होंने इस पेशे को पैसा कमाने का माध्यम बनाया। वेबसाइट पर खुद के फोटो डाले जिसके बाद ग्राहकों से संपर्क होता था। वेबसाइट से ही तय होता था कि कहां और किसके पास जाना है। पुलिस अब इस मामले में आगे की कड़ियां तलाश रही है।   

पुलिस को सूचना मिली थी कि स्कीम नंबर 114 में सेक्स रैकेट चल रहा है। पुलिस ने यहां दबिश दी तो यहां से गुरुग्राम की दो युवतियां और रायसेन के करीब सात लड़के मिले। इनसे पूछताछ के बाद पूरे गिरोह का खुलासा हुआ। पुलिस के अनुसार सेक्स रैकेट चलाने वालों ने वेबसाइट बनवाई थी।

इसके माध्यम से ही कामकाज चलता था। वेबसाइट को खोलते ही कॉल और मैसेज आते थे। ग्राहक से संपर्क होते ही उसे युवतियों के फोटो भेजे जाते थे। इसके बाद सौदा तय होने पर युवतियों को संबंधित के पास भेजा जाता था। इसमें दलाल के रूप में नीरज का नाम सामने आया है जो पूरी प्रक्रिया करवाता था। 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार