सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

बिहार की राजनीति में बड़ा उलटफेर; क्या RJD-JDU का होगा विलय? किन मुद्दों को अस्त्र बनाकर बीजेपी को घेरने की है तैयारी? पढ़ें

अगले दिन 21 सितंबर को लालू प्रसाद, शरद यादव और तेजस्वी यादव एक मंच से बीजेपी विरोध की मुहिम को तेज करते नजर आए और सोनियां गांधी से मिलने की बात जोर-शोर से कही.

Geeta
  • Sep 22 2022 12:34PM

 बिहार राज्य इन दिनों में काफी चर्चा में है. चाहे वो नीतीश का दोबारा सीएम बनना हो या तेजस्वी का उपमुख्यमंत्री बनना. बिहार विकास से ज्यादा अपनी राजनीति को लेकर चर्चा में रहता है. कभी RJD तो कभी JDU ने बिहार की राजनीति पर अपना कब्जा जमाया.

कांगेस ने भी बिहार में हाथ आजमाया. लेकिन इस राज्य की राजनीति में सबसे ज्यादा चर्चा RJD  और JDU की रही. वहीं एक बार फिर से दोनों ही पार्टियां चर्चा का विषय बनीं हुई है. कहा जा रहा है कि बिहार की राजनीति में एक बड़ा उलटफेर होने सकता है. जहां तेजस्वी बिहार की गद्दी संभालेंगे तो वहीं नीतीश कुमार दिल्ली का रूख कर सकते हैं.

कहा जा रहा है कि दोनो पार्टियों का विलय हो सकता है. नीतीश दिल्ली का रूख कर के विपक्षी दल बीजेपी को कड़ी टक्कर देने की तैयारी में हैं. जहां नीतीश कुमार बीजेपी विरोधी दल के संयोजक के रूप में काम करते दिखाई पड़ने वाले हैं. वहीं बिहार में ताजपोशी तेजस्वी यादव की तय मानी जा रही है.

देखा जाए तो अगर दोनों पार्टियों का विलय हो गया तो ये देश में एक बड़ी पार्टी बन कर उभरेगी. जहां बीजेपी को एक कड़ा प्रतिद्वंद्वी मिलेगा. तो वहीं दूसरी तरफ लोकसभा चुनाव से पहले देश में एक बड़े दल के रूप में पहचान हो जाएगी. दो दिन पहले यानि की 20 सितंबर को नीतीश कुमार ने भी अपनी मंशा इशारों में ज़ाहिर कर दी थी कि उनकी योजना तेजस्वी यादव को मज़बूत करने की है.

अगले दिन 21 सितंबर को लालू प्रसाद, शरद यादव और तेजस्वी यादव एक मंच से बीजेपी विरोध की मुहिम को तेज करते नजर आए और सोनियां गांधी से मिलने की बात जोर-शोर से कही. मतलब साफ है कि लालू प्रसाद इसलिए भी उत्साहित हैं कि बिहार का ताज साल 2005 के बाद आरजेडी के हाथों आता दिखाई पड़ रहा है और अब उनके बेटे तेजस्वी यादव उस कुर्सी से चंद महीनों की दूरी पर हैं.

नीतीश कुमार ने अन्य नेताओं की तरह न बनकर राजनीति को सही ढंग से खेला है. हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि जिस प्रकार एमपी, महाराष्ट्र में बीजेपी विपक्षी पार्टी के विधायकों को अपनी तरफ कर के एक बड़ा पासा खेल रही थी. वैसा ही वो बिहार में भी करने की सोच रही थी लेकिन नीतीश बीजेपी के इस प्लान को पहले समझ चुके थे, और बिना वक्त गवाए उन्होंने बीजेपी से गठबंधन तोड़ कर RJD के गठबंधन कर के नई पार्टी बनाई, और सीएम बन गए.  

नीतीश अपनी राजनीति के अंतिम दौर में हैं और इस बार वो दिल्ली की राजनीति में धमाकेदार कदम रखना चाहते हैं. नीतीश कुमार की योजना ज्यादा से ज्यादा विपक्षी पार्टियों को एक कर संयोजक बनने की है, इसलिए लालू प्रसाद और नीतीश कुमार एक साथ सोनियां गांधी से मिलने आ रहे हैं. सोनिया विदेश दौरे से लौटने के बाद दिल्ली आई हैं और नीतीश और लालू अपनी इस कवायद में कांग्रेस की भूमिका को अहम मानते हैं.

योजना के मुताबिक, नीतीश कुमार एंटी बीजेपी फ्रंट बनाकर बीजेपी के खिलाफ जोरदार प्रचार पूरे देश में करना चाह रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक इस कड़ी में बिहार की गद्दी छोड़ने को नीतीश कुमार तैयार हो गए हैं और वो दिल्ली का रुख करना चाहते हैं. योजना के मुताबिक विपक्षी एकता का मजबूत गठजोड़ बनाना पहली प्राथमिकता है. वहीं संयोजक बनकर बीजेपी के खिलाफ पूरे देश में प्रचार करना दूसरी प्राथमिकता. यही वजह है कि राजनीति के हाशिए पर जा चुके शरद यादव भी पटना पहुंचकर अचानक एक्टिव नजर आने लगे हैं.

शरद यादव लालू प्रसाद के साथ पटना में एकमंच पर बुधवार को एक स्वर में साल 2024 में बीजेपी को हराने की बात करते नजर आए. लालू प्रसाद लंबी बीमारी के बावजूद सक्रिय इसलिए दिखाई पड़ रहे हैं, क्योंकि उनकी योजना अब अपने बेटे तेजस्वी यादव को पूरे तौर पर पदस्थापित करने की है.

लालू इस मुहिम में लगभग सफल हैं. वहीं तेजस्वी योजना के मुताबिक सीएम बन जाते हैं तो ये उनके लिए बहुत बड़ी उपलब्धी मानी जाएगी. आरजेडी के दिग्गज नेता शिवानंद तिवारी सहित कई नेता तेजस्वी यादव को गद्दी सौंपने को लेकर गाहे बगाहे बयान देते नजर आए हैं, लेकिन ऐसा करने की योजना पर काम हो रहा है और लालू प्रसाद इसको फलीभूत करने के लिए सक्रिय नजर आने लगे हैं.

 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

ताजा समाचार