सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

29 जुलाई- बलिदान दिवस UP पुलिस के जांबाज़ सतीश यादव जी. आगरा में अपराधियों से लड़कर पाई थी वीरगति

समाज को अपराध मुक्त करने के लिए वीरगति को प्राप्त हो गए थे जांबाज़ सतीश.

Rahul Pandey
  • Jul 29 2020 4:19AM
यदि किसी राज्य की कानून व्यवस्था को पटरी पर लाने में और समाज में सुरक्षा और शांति की भावना स्थापित करने में सबसे ज्यादा योगदान होता है तो वो होता है वहां की पुलिस का . उत्तर प्रदेश में जिस कानून के राज की चर्चा होती है उसको कायम करने में उत्तर प्रदेश की पुलिस का सिर्फ पसीना ही नहीं बल्कि खून ही बहा है . इसके जीवंत उदाहरण सब इंस्पेक्टर सहजोर सिंह, सब इंस्पेक्टर जय प्रकाश सिंह , सिपाही अंकित तोमर और 2 साल पहले आज के दिन अमरता को प्राप्त करने वाले कांस्टेबल सतीश यादव हैं .. अपने कर्तव्य को अपने प्राणों से भी ऊपर रख कर इन वीरों ने समाज को खुशहाली दे कर खुद ओढ़ लिया कफन.

आज चर्चा हो रही है उत्तर प्रदेश के आगरा पुलिस की .. गीता के जिस श्लोक “परित्राणाय साधूना, विनाशाय च दुष्कृताम” को प्रभु श्री कृष्ण हजारों वर्ष पहले उपदेश दे कर गये थे उसी सिद्धांत को एक अपने खुद के अंतर आत्मसात कर के आगरा के पुलिस बल ने जिसमे सतीश यादव भी थे , उन उन इलाकों में न्याय , नीति और कानून का शासन स्थापित किया जहाँ कभी अपराधी ने अपना सर उठाना चाहा था . ये घटना रात की है जब आगरा गहरी नींद में सो रहा था क्योकि उसको पता था कि उसके रक्षक बाहर सडको पर जाग कर उनकी रक्षा कर रहे हैं और ये सच भी था क्योकि उसी समय सतीश यादव बाहर सूनसान गलियों में भिड़ा था 3 अपराधियों से एक साथ.

ये घटना आज की थी अर्थात 29 जुलाई की और स्थान था आगरा का एत्माद्दौला क्षेत्र का प्रकाशपुरम. इस इलाके में चोरी की बदनीयती से घूम रहे चार बदमाशों को सिपाही सतीश यादव और कुलदीप ने घेर लिया था। साक्षरता से दूर ये सभी आरोपी दिन में मजदूरी करते थे और रात में चोरी करते थे .. इनकी 25 से 30 साल के बीच थी . तड़के सुबह 4.20 पर सिपाही सतीश चन्द्र यादव और कुलदीप गश्त खत्म कर टेढ़ी बगिया पुलिस बूथ पर अपने हथियार रख फ्रेश होने जा रहे थे। टेढ़ी बगिया 100 फुटा रोड पर उन्हें काली पल्सर पर चार बदमाश दिखे तो उन्हें टोका। इस पर बदमाशों ने बाइक यू टर्न कर प्रकाश पुरम के रास्ते पर खड़ी कर दी और उतरकर गली की तरफ भागे। यह देख दोनों सिपाहियों ने दौड़ाकर एक-एक बदमाश को पकड़ लिया। सतीश ने बदमाश से तमंचा भी छीन लिया.

अपने साथी को घिरते देख दूसरे बदमाश ने सतीश यादव को दो गोलियां मारी दीं। जिससे सतीश वहीं गिर पड़े। ये देख साथी सिपाही कुलदीप दबोचे गए बदमाश को छोड़ सतीश के पास पहुंचे। उधर बदमाश भाग निकले। बाद में कुलदीप ही घायल सतीश को बाइक पर लेकर अस्पताल पहुंचे, लेकिन तब तक काफी रक्त स्राव होने के चलते सतीश यादव अमरता को प्राप्त हो चुके थे .. सतीश मूल रूप से अलीगढ के रहने वाले थे . आज एक वर्ष होने पर सतीश यादव को आज उनके बलिदान दिवस अर्थात 29 जुलाई को बारम्बार नमन और वन्दन करते हुए उनकी यशगाथा को सदा सदा के लिए अमर रखने का संकल्प सुदर्शन परिवार लेता है .. साथ ही समाज से अपेक्षा करता है पुलिस वालों के प्रति अपने नजरिये में एक सकारत्मक बदलाव का जो उनकी रक्षा के लिए हर तकलीफ खुद पर झेलते हैं . सतीश यादव अमर रहें

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार