सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

चुनाव से पहले बीएसपी का पहला ब्राह्मण सम्मेलन आज, अयोध्या पहुंचे पार्टी महासचिव

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

Pradosh Chavhanke
  • Jul 23 2021 4:59PM
उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। दरअसल, मायावती एक बार फिर ब्राह्मण कार्ड खेल रही हैं। यही वजह है कि दलितों की राजनीति करने वाली पार्टी आज से पूरे राज्य में ब्राह्मण सम्मेलन आयोजित करने जा रही है। बस सिर्फ ब्राह्मण सम्मेलन का नाम बदलकर 'प्रबुद्ध वर्ग के सम्मान में विचार गोष्ठी' कर दिया गया है। पार्टी ब्राह्मण सम्मेलनों की शुरुआत आज अयोध्या से कर रही है। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र की अगुवाई में होने वाले इस सम्मेलन में पार्टी की कोशिश यह बताने की होगी कि वह ब्राह्मणों की सबसे बड़ी हितैषी है। ग़ौरतलब है कि पार्टी महासचिव सतीश मिश्र आज अयोध्या के हनुमानगढ़ी पहुंच रहे हैं। हनुमान जी के दर्शन के बाद वह राम जन्मभूमि जाकर प्रभु श्री राम के दर्शन करेंगे। इसके बाद तय कार्यक्रम के अनुसार वह सरयू जाकर दुग्धाभिषेक करेंगे। इसी के साथ ही सतीश मिश्र साधु-सन्यासियों से भी आशीर्वाद लेंगे। इसके बाद दोपहर 12 बजे वह तारा रिसॉर्ट पहुंचकर 'प्रबुद्ध वर्ग विचार गोष्ठी' में शामिल होंगें।

29 जुलाई तक चलेगा सम्मेलन


अयोध्या दौरे के बाद बसपा का अगला पड़ाव अंबेडकर नगर होगा। जहां पर 24 और 25 जुलाई को कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इसके बाद 26 जुलाई को प्रयागराज और 27 जुलाई को कौशाम्बी में भी बड़े कार्यक्रम होंगे। फिर 28 जुलाई को प्रतापगढ़ और 29 जुलाई को सुल्तानपुर में सम्मेलन होगा। एक तय रणनीति के अनुसार सतीश मिश्रा यूपी के हर उस जिले का दौरा करेंगे जहां पर ब्राह्मण समाज का प्रभुत्व ज्यादा है।


ब्राह्मण समाज को साधने की कोशिश


दरअसल, यूपी में ब्राह्मण वोट क़रीब 11 फीसदी है। बता दें कि, सन 2007 के विधानसभा चुनाव में मायावती को ब्राह्मणों का भी अच्छा वोट मिला और उनकी पूरी बहुमत की सरकार बन गई थी। लेकिन बाद में ब्राह्मणों का सबसे बड़ा हिस्सा बीजेपी के साथ चल गया। इसके बाद अब जब योगी सरकार में ब्राह्मण वर्ग की नाराजगी की चर्चा होती है, तो ऐसे में मायावती की नज़र इस वोट बैंक में फिर सेंध लगाने की है।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार