सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने किया डीडीए द्वारा लगाए गए राष्ट्रध्वज का प्रथम ध्वजारोहण

उत्तर पूर्वी दिल्ली के डीडीए पार्क में मनोज तिवारी ने लोगो को किया संबोधित

Namit Tyagi , twitter @NamitTyagi1
  • Jan 24 2021 7:52PM
भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं उत्तर पूर्वी दिल्ली से सांसद श्री मनोज तिवारी ने आज लोनी रोड स्थित सेंट्रल पार्क में डीडीए द्वारा लगाए गए राष्ट्रीय ध्वज का प्रथम ध्वजारोहण किया इस बाबत एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें सांसद श्री मनोज तिवारी के अलावा विधायक श्री जीतेंद्र महाजन पूर्वी दिल्ली नगर निगम में नेता सदन श्री प्रवेश शर्मा निगम पार्षद श्रीमती रीना माहेश्वरी श्रीमती सुमन लता नागर श्री अजय शर्मा जिलाध्यक्ष श्री विनोद कुमार महामंत्री श्री मनोज त्यागी डा यू के चौधरी भाजपा नेता श्री कैलाश जैन डॉक्टर अनिल गुप्ता श्री दिव्य जयसवाल श्री मुकेश बंसल आनंद त्रिवेदी नवीन शाहदरा जिला सांसद प्रतिनिधि श्री विकास त्यागी मंडल अध्यक्ष अनिल कटारिया सहित डीडीए के संबंधित विभाग अधिकारी एवं आरडब्लूए के पदाधिकारियों सहित बड़ी संख्या में स्थानीय लोग मौजूद रहे
ध्वजारोहण से पहले कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए श्री मनोज तिवारी ने कहा कि किसी राष्ट्र का राष्ट्रीय ध्वज उस राष्ट्र की स्वतंत्रता का प्रतीक होता है। प्रत्येक स्वतंत्र राष्ट्र का एक अपना राष्ट्रीय ध्वज होता है। इसी प्रकार से हमारे देश का भी राष्ट्र ध्वज है, जिसे तिरंगा कहते हैं। भारत का राष्ट्रीय ध्वज, तिरंगा भारत का गौरव है और यह प्रत्येक भारतवासी के लिए बहुत महत्व रखता है। स्वतंत्र भारत का गौरव हमारा राष्ट्रीय ध्वज उन असंख्य बलिदानों की विरासत है जो हमें शहीदों की कुर्बानी के बाद मिली है हमारे राष्ट्रीय ध्वज के तीन रंगों में एक बड़ा संदेश छुपा है जो हमें राष्ट्रवाद के लिए प्रेरित करता है इसमें तीन समान चौड़ाई की क्षैतिज पट्टियाँ हैं, जिनमें सबसे ऊपर केसरिया रंग की पट्टी जो देश की ताकत और साहस को दर्शाती है, बीच में श्वेत पट्टी धर्म चक्र के साथ शांति और सत्य का संकेत है ओर नीचे गहरे हरे रंग की पट्टी देश के शुभ, विकास और उर्वरता को दर्शाती है। ध्वज की सफेद पट्टी के मध्य में गहरे नीले रंग का एक चक्र है जिसमें 24तीलियां होती हैं। यह इस बात प्रतीक है भारत निरंतर प्रगतिशील है| इस चक्र का व्यास लगभग सफेद पट्टी की चौड़ाई के बराबर होता है व इसका रूप सारनाथ में स्थित अशोक स्तंभ के शेर के शीर्षफलक के चक्र में दिखने वाले की तरह होता है। भारतीय राष्ट्रध्वज अपने आप में ही भारत की एकता, शांति, समृद्धि और विकास को दर्शाता हुआ दिखाई देता है।

श्री मनोज तिवारी ने कहा की लाखों वर्ग किलोमीटर में फैला संपूर्ण भारतवर्ष और इसमें बसने वाले करोड़ों लोगों को एक सूत्र में पिरो करदेश को गतिमान रुप से चलाने वाला संविधान अगर देश की आत्मा है तो हमारे देश का राष्ट्रीय ध्वज हमारे सम्मान और गौरव का प्रतीक जो सार्वभौमिकता और देश की अखंडता के लिए हमें जीवन के बड़े से बड़ा बलिदान देने के लिए प्रेरित करता है इसी तिरंगे को हाथों में लेकर स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों ने देश को गुलामी की जंजीरों से मुक्त किया तो आज भी देश की सीमाओं की रक्षा करने के लिए सैनिक इसी तिरंगे को हाथों में लेकर समय-समय पर देश की सेना के शौर्य और विजय गाथा का इतिहास रचते हैं उन्होंने क्षेत्र निवासियों को उनके क्षेत्र में डीडीए द्वारा लगाए गए राष्ट्रीय ध्वज की बधाई देते हुए कहा की सेंट्रल पार्क में आने वाले हजारों क्षेत्र निवासियों को यह देश प्रेम की भावना का बोध कराएगा वही आज जब हम गणतंत्र दिवस स ठीक 2 दिन पहले राष्ट्रध्वज का ध्वजारोहण कर रहे हैं तो हमें संकल्प लेना चाहिए कि जब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पूरा देश उत्तरोत्तर विश्व गुरु के स्थान की ओर बढ़ रहा है तब हम सब ने मिलकर उनके नेतृत्व में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की इस विरासत की रक्षा के लिए हमेशा एकजुट रहना चाहिए क्योंकि जब देश के दुश्मन देश को तोड़ने का षड्यंत्र करने लगे तो हमारा राष्ट्रध्वज देश की तरक्की खुशहाली और शांति के लिए त्याग तपस्या और बड़े से बड़ा बलिदान देने के लिए प्रेरित करता है और इस प्रेरणा को जागृत करने और राष्ट्र ध्वज लगाने के लिए दिल्ली विकास प्राधिकरण और उनकी पहल प्रशंसनीय है।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार