सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

चीन तलाश रहा भारत के नाराजगी की वजह.. लेकिन असल मे अब बहुत देर हो चुकी

कुछ चीन परस्त लोगों को छोड़ कर बाकी पूरे देश मे आक्रोश.

Rahul Pandey
  • Jul 1 2020 6:59AM
भारत ने सोमवार टिकटॉक समेत चीन के 59 ऐप पर प्रतिबंधित करने का बड़ा फैसला लिया था। इसके साथ ही गूगल प्ले स्टोर और ऐपल ऐप स्टोर को इन्हें हटाने का आदेश दिया था। यह मांग असल में उस देश भक्त जनता की थी जो गलवान भर्ती में अपने 20 वीर बलिदानी के परिवार का रुदन और क्रंदन नहीं देख पाया और अब चीन को समूल नाश करने का संकल्प ले चुका है । यद्यपि चीन समीक्षा कर रहा है लेकिन यह कहना गलत नहीं होगा कि अब बहुत देर हो चुकी।

ध्यान देने योग्य है कि लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों के साथ संघर्ष के बाद उपजे तनाव के बीच भारत के चीन के 59 ऐप को प्रतिबंधित करने से चीन की अकड़ ढीली पड़ती नजर आ रही है और उसने इस पर चिंता जताते हुए कहा कि वह स्थिति की समीक्षा कर रहा है। गलवान संघर्ष के बाद भी ऐंठ दिखा रहे चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने मंगलवार को चिंता जताते हुए कहा कि हम स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। यही नहीं भारत के इस कदम के बाद चीन ने अंतरराष्ट्रीय कानून का राग भी अलापना शुरू किया है।

लिजियान ने भारत के चीन के ऐप पर रोक पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि चीन काफी चिंतित है और वह स्थिति की समीक्षा कर रहा है। दुनिया के सबसे गद्दार देश के जाने वाले चीन के प्रवक्ता ने कहा कि हम कहना चाहते हैं कि चीन सरकार हमेशा से अपने कारोबारियों को अंतरराष्ट्रीय और स्थानीय नियमों का पालन करने को कहती रही है। भारत सरकार पर चीन समेत सभी अंतरराष्ट्रीय निवेशकों के कानूनी अधिकारों की रक्षा करने की जिम्मेदारी है। यद्यपि माना यह जा रहा है कि कि अब बहुत देर हो चुकी है और भारत की जनता चीन कोो कभी भी और किसी भी हाल मैं माफ ना करने का मन बना लिया है .

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें