सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे

Donation

AIMPLB ने स्कूलों में "सूर्य नमस्कार" कार्यक्रम को लेकर केंद्र का किया विरोध

पत्र में कहा गया कि केंद्र सरकार के सूर्य नमस्कार के प्रस्तावित कार्यक्रम से मुस्लिम छात्र-छात्राओं को ऐसे कार्यक्रम में सम्मिलित होने से बचना चाहिए।

रजत के.मिश्र, Twitter - rajatkmishra1
  • Jan 4 2022 4:33PM

इनपुट-श्वेता सिंह, लखनऊ

 
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ पर 1 जनवरी से 7 जनवरी के बीच स्कूलों में ‘सूर्य नमस्कार’ कार्यक्रम आयोजित करने के सरकार के निर्देश का विरोध किया है।
 
मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव की ओर से जारी पत्र में कहा गया कि केंद्र सरकार के सूर्य नमस्कार के प्रस्तावित कार्यक्रम से मुस्लिम छात्र-छात्राओं को ऐसे कार्यक्रम में सम्मिलित होने से बचना चाहिए।
 
जानें, बोर्ड ने क्या कहा-
 
बोर्ड ने कहा हां अगर सरकार चाहे तो देश प्रेम की भावना को उभारने के लिए राष्‍ट्रगान पढवाए, यदि सरकार देश से प्रेम का हक अदा करना चाहती है तो उसे चाहिए कि वो देश की वास्‍तविक समस्‍याओं पर ध्‍यान दे, देश की बढ़ती बेरोजगारी, मंहगाई, आपसी नफरत का औपचारिक प्रचार, देश सीमाओं की रक्षा करने में विफलता, सरकार की ओर से सार्वजनिक संपत्ति की निंरतर बिक्री, ये देश के वास्‍तविक मुद्दे हैं जिन पर सरकार को ध्‍यान देने की आवश्‍यकता है।
 
इसलिए रखा गया है सूर्य नमस्कार कार्यक्रम-
 
आयुष मंत्रालय ने योगासन के अभ्यास के माध्यम से फिटनेस की संस्कृति बनाने और स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सोमवार को सूर्य नमस्कार कार्यक्रम शुरू किया। केंद्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि यह पहल भारत की आजादी के 75 साल "आजादी का अमृत महोत्सव" के सम्मान में है। 

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार