सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सहयोग करे

Donation

जवानों का खून बहा तो रो दिए सच्चे किसान... जय जवान कह कर 2 बड़े किसान गुट अपने घरों की तरफ वापस

Farmer Protest : दिल्ली हिंसा के बाद टुकड़ो में बटां किसान आंदोलन, दो गुटों ने खत्म किया धरना

Shiv Kumar
  • Jan 27 2021 7:16PM

किसान आंदोलन के दौरान हुई हिंसा से किसानों में फूट पड़ गई है। जिसका परिणाम यह हुआ है कि किसान गुट टुकड़ो में बटना शुरु हो गए हैं। किसानों के दो गुटों ने प्रदर्शन खत्म करने की फैसला किया है। यह दोनों ही गुट किसानों की टैक्टर रैली में हुई हिंसा से आहत थे। 

दूसरे रंग का ध्वज फहराए जाने का किया विरोध

दरअसल गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे राष्ट्रीय किसान आंदोलन संगठन के मुखिया वीएम सिंह ने धऱना-प्रदर्शन खत्म करने का एलान किया है। वहीं, दूसरी ओर दिल्ली-नोएडा स्थित चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहे भानू गुट ने भी धरना खत्म कर दिया है। भानू गुट ने ध्वज फैराने को गलत बताते हुए धरना खत्म करने के लिए कोर कमेटी की बैठक की, जिसके बाद यह धरना खत्म किया। बता दें कि  दोनों ही गुटों ने लाल किले पर दूसरे रंग का ध्वहज फहराए जाने के विरोध में आंदोलन को खत्म  किया है। 

हिंसा के जिम्मेदारों के खिलाफ होनी चाहिए कार्रवाई 

गाजीपुर बॉर्डर पर पीसी में किसान नेता वीएम सिंह ने कहा कि वो आज बॉर्डर से हट जाएंगे। साथ ही कहा कि राष्ट्रीय किसान आंदोलन संगठन अब इस आंदोलन का हिस्सा नहीं है। कल की हिंसा की निंदा करते हुए कहा कि जो भी इसके जिम्मेदार हैं उन सभी के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। वहीं, खरखौदा के ट्रैक्टर परेड की आड़ में लालकिले पर तिरंगे की जगह अन्य झंडा फहराए जाने के बाद दहिया खाप के प्रधान सुरेंद्र दहिया ने जल्द ही सर्वखाप की पंचायत बुलाकर किसान यूनियनों को दिए गए नैतिक समर्थन पर विचार करने की बात कही है।

किसानो ने लाल किले पर दूसरे रंग का ध्वपज फहराए जाने का विरोध किया है उन्होने इसे आंदोलन में उत्पादियों की घुसपैठ करार दिया है। इस सब से उन लोगों को भी साफ संदेश मिलेगा जो लाल किले पर मजहबी झण्डा फैराने वालों किसान बता रहे थे।

सहयोग करें

हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें।
Pay

ताज़ा खबरों की अपडेट अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करे सुदर्शन न्यूज़ का मोबाइल एप्प

0 Comments

संबंधि‍त ख़बरें

ताजा समाचार