12 दिसंबर – ब्रिटिश बंदूकों के विरुद्ध मेघालय में तीरों से लड़े गए युद्ध के महानायक थोगम संगमा बलिदान दिवस. महिलाओं – बच्चों ने भी कटाये थे शीश पर उन्हें नहीं मिला इतिहास में स्थान

ये सर्वविदित है कि देश को उस के वास्तविक इतिहास से वंचित रखने के तमाम प्रयास किये गए हैं ..,

Read more

22 नवम्बर – वीरांगना झलकारी बाई जयंती. 1857 महायुद्ध की वो महानायिका नारी शक्ति जिनकी यशगाथा सवाल है “बिना खड्ग बिना ढाल” वाले गाने पर

भले ही नकली कलमकारों व कथित इतिहासकारों ने नारी शक्ति की उस प्रतीक के साथ न्याय नहीं किया हो लेकिन

Read more

18 सितम्बर – बलिदान दिवस पिता- पुत्र राजा शंकरशाह और रघुनाथ शाह जो तोप से उड़ा देने तक प्रजा को देते रहे युद्ध का संदेश

कितना सच है दे दी हमें आज़ादी बिना खड्ग बिना ढाल .. इस गाने में कितनी सच्चाई है ये ऐसे

Read more

3 सितम्बर- आहुति दिवस बाल वीरांगना कुमारी मैना. 1857 महायुद्ध में सबसे कम आयु की आहुति. मात्र 13 वर्ष, जिन्हें नकली कलमकारों ने इतिहास में नहीं दिया स्थान

ऐसी वीरांगनाओं के इतिहास को भुला कर ना जाने किसे किसे आयरन आदि की पदवी दे डाली गयी ..

Read more

24 जुलाई – #बलिदान_दिवस पर नमन है अंग्रेजो की जड़ें हिला देने वाले उस वीर चैन सिंह को जिन्हें कहा जाता है मध्यप्रदेश का मंगल पाण्डेय

बिना खड्ग बिना ढाल के नहीं चैन का जीवन ही तलवारों के साथ बीता था ..

Read more

मंगल पाण्डेय के खिलाफ अंग्रजो को मिल नहीं रहे थे गवाह..तभी सामने आया था वो “शेख” जो अनंत काल तक गुनाहगार रहेगा भारत का. इसका छिपाया नकली कलमकारों ने

जानिये एक गद्दार के बारे में जिसका नाम छिपा गये झोलाछाप इतिहासकार .

Read more

मंगल पाण्डेय संग एक और भारतीय सैनिक चढा था फांसी जिनका नाम आज तक कहीं नहीं लिया गया .. जानिये कौन था वो दूसरा बलिदानी – “जन्म दिवस विशेषांक”

एक ऐसा इतिहास जो आप ने सोचा भी नहीं होगा क्योकि छिपाया गया है आप से .

Read more

19 जुलाई – स्वतंत्र संग्राम की प्रथम आहुति मंगल पाण्डेय जन्मदिवस. इनकी आग उगली बंदूक प्रमाण है कि ‘बिना खड्ग बिना ढाल” वाली लाइन गलत है

आज भी जिसके नाम से होता, रोम रोम में कम्पन है .
भारत के उस बाहुबली की हिम्मत का अभिनंदन है..

Read more

30 जून – आज ही “भारत माता की जय” बोल कर झारखण्ड में शुरू हुआ था संथाल विद्रोह ..खुद अंग्रेजों ने लिखा – “जब तक ड्रम बजता रहा, तब तक संथाल लड़ता रहा.. बलिदान हुए थे 20 हजार

क्या था ये युद्ध और कितने हुए बलिदान , जानिए हमारे संग ।

Read more

22 जून- सेठ अमरचन्द बांठिया बलिदान दिवस.. जिंदगी भर कमाई पूरी पूँजी दे दी क्रांतिकारियों को जिसे अंग्रेजो ने माना अपराध और दे दी फांसी

जानिये कौन थे ये महान व्यक्तित्व जिन्हे माना गया १८५७ का भामाशाह

Read more