इलाहाबाद, फैजाबाद के बाद बदला जाएगा सुल्तानपुर का नाम… विधानसभा में पेश हुआ प्रस्ताव

इलाहाबाद का नाम प्रयागराज तथा फैजाबाद का नाम अयोध्या किये जाने के बाद अब आदिगंगा कही जाने वाली गोमती नदी के किनारे बसे ऐतिहासिक शहर सुल्तानपुर का नाम भी बदलने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. सुल्तानपुर का नाम बदलकर सनातन के आराध्य प्रभु श्रीराम के पुत्र कुश के नाम पर “कुश भवनपुर” रखने का प्रस्ताव उत्तर प्रदेश की विधानसभा में पेश किया गया है. सुल्तानपुर का नाम कुश भवनपुर रखने का ये प्रस्ताव उत्तर प्रदेश के लम्भुआ से पहली बार चुनाव जीत कर आए बीजेपी विधायक देवमणि द्विवेदी ने पेश किया है.

विधायक देवमणि द्विवेदी द्वारा सुल्तानपुर का नाम बदलकर कुश भवनपुर रखने के प्रस्ताव पर  विधानसभा में इस प्रस्ताव पर सेक्शन 103 के तहत चर्चा होगी. इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विसेज के पूर्व अधिकारी रहे विधायक देवमणि द्विवेदी का कहना है कि उनके पास सुल्तानपुर के नाम को बदलने का ऐतिहासिक साक्ष्य मौजूद है. उन्होंने कहा कि शहर पहले कुश भावनपुर के नाम से जाना जाता था. इसके अलावा इसे कुशपुर और कुशावटी के नाम से भी जाना जाता रहा है. लेकिन सबसे प्रसिद्द नाम कुश भावनपुर था.

अपने प्रस्ताव को लेकर विधायक देवमणि द्विवेदी का कहना है कि महान कवि कालिदास की महाकाव्य रघुवंश, इतिहासविद एलेग्जेंडर कन्निघम और सुल्तानपुर के राजपत्र के रिकॉर्ड के मुताबिक भी शहर का नाम यही था. लेकिन अलाउद्दीन खिलजी के शासन काल के दौरान इसका नाम बदलकर सुल्तानपुर कर दिया गया. बता दें अगर यह प्रस्ताव मंजूर हो जाता है तो बीजेपी सरकार आने के बाद यह चौथा शहर होगा, जिसका नाम बदला जाएगा. इससे पहले इलाहाबाद और फ़ैजाबाद का नाम प्रयागराज और अयोध्या किया गया है. इसके अलावा मुगलसराय जंक्शन का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन किया गया है.

Share This Post

Leave a Reply