भारत में रहने की शरण पा कर भी भारतीय नहीं बन पाया वो बांग्लादेशी रहीम शेख,, और देश को ही करने लगा खोखला

हिंदुस्तान में बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठियों का संक्रमण लगातार फैलता ही जा रहा है तथा ये घुसपैठिये लगातार न सिर्फ भारत की आन्तरिक तथा बाहरी सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बन रहे हैं बल्कि देश को खोखला भी कर रहे हैं.  यही तो कर रहा था बांग्लादेशी घुसपैठिया रहीम शेख. रहीम शेख को हिंदुस्तान ने अपनाया, हिंदुस्तान ने शरण दी. रहीम शेख हिंदुस्तान में रहकर हिंदुस्तान की हव्वा में सांस ले रहा था, हिंदुस्तान के अन्न से ही अपना पेट भर रहा था लेकिन इसके बाद भी वह हिंदुस्तान को दिल से अपना नहीं सका तथा करने लगा वो सब कुछ जिससे हिंदुस्तान को खोखला किया जा सके.

हिंदुस्तान में बांग्लादेशी घुसपैठियों का सबसे बड़ा गढ़ किसी राज्य को कहा जाए तो निश्चित रूप से हर किसी के जेहन में पश्चिम बंगाल का नाम आता है क्योंकि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की नीतिया भी कुछ इसी तरह की है कि पश्चिम बंगाल न सिर्फ बांग्लादेशी घुसपैठिये बल्कि रोहिंग्या आक्रान्ताओं के लिए भी सॉफ्ट कोर्नर बना हुआ है.. राहीम शेख का मामला भी पश्चिम बंगाल से ही जुड़ा हुआ है. मुर्शिदाबाद जिले के शमशेरगंज थाना अंतर्गत पालकी मोड इलाके से पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी कर आठ लाख तीन हजार रुपये के जाली नोटों के साथ एक बांग्लादेशी सहित दो को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस की गिरफ्त में बांग्लादेशी का नाम रहीम शेख है जबकि उसके साथ पुलिस ने झारखंड के निवासी मीजान शेख को भी गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार इनके पास से आठ लाख तीन हजार रुपये के जाली नोट बरामद किए गए हैं. इन जाली नोटों में दो हजार रुपये के नोटों की संख्या 379 है जबकि 500 के 90 नोट पकड़े गए हैं. दस दिन के पुलिस रिमांड के आवेदन के साथ पुलिस ने इन्हें अदालत में बुधवार को पेश किया. बुधवार को मुर्शिदाबाद जिले के पुलिस सुपरिंटेंडेंट सुकेश ने एक संवाददाता सम्मेलन के माध्यम से ये जानकारी दी.

Share This Post

Leave a Reply