शरण में आओ ईशू की , भूत प्रेत सब भाग जाएंगे .. और फिर दो दर्जन लोग आ भी गए

सुदर्शन न्यूज के कॉन्क्लेव में जब सुरेश चव्हाणके जी ने योगी आदित्यनाथ जी से पूछा था की उत्तर प्रदेश में तेजी से बढ़ रहे धर्मांतरण के विषय में उनका क्या कहना है तो उन्होंने उत्तर दिया था की उन्होंने ईसाइयो के मुख्य प्रतिनिधियों से चर्चा की है और धर्मांतरण को प्रभावी ढंग से काबू किया जायेगा .. लेकिन अचानक ही जिस प्रकार से एक के बाद एक जगहों से दुस्साहसिक धर्मांतरण की खबरें आना शुरू हो गयी है उस से यही लगता है की धार्मिक लोगों के विरुद्ध मतांतर करवाने वालों ने मोर्चा खोल रखा है . 

ज्ञात हो की एक बार फिर से धर्मांतरण के ठेकेदारों ने उत्तर प्रदेश में खेला है धर्म परिवर्तन का नंगा नाच जिसमे मुज़फ्फरनगर में दो दर्जन से भी अधिक लोगों ने धर्म परिवर्तन कर ईसाई बना दिया गया है .. चर्च के पादरी ने कुछ लोगों से फ़ोटो आधार कार्ड लिए हैं वहीं खतौली से भाजपा के विधायक विक्रम सैनी ने इस मामले पर बोलते हुए कहा कि धर्म परिवर्तन करने का यह मामला बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। धर्म परिवर्तन करने वाले लोगो से संपर्क किया जा रहा है और जिस पादरी ने इस तरह की हरकत की है उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पादरी का यह भी दावा है कि यहां आने से लोगों पर भूत प्रेत का साया सब दूर हो जाता है और लोग भगवान ईशू के दरबार मे आकर अपनी सारी पीड़ाओं से मुक्ति पा लेते हैं इसलिए लोग इस धर्म को अपने आप अपना रहे हैं। हमारे द्वारा किसी का भी धर्म परिवर्तन नहीं कराया जा रहा है न ही किसी से कोई शपथ पत्र लिया जा रहा है। वही खतौली क्षेत्र के गांव जोहरा की एक महिला संगीता ने बताया ने बताया कि मेरा पति मेट्रो रिक्शा चलाता है और हम काफी दिनों से परेशान चल रहे थे तो हम को हमारे एक जानकर ने बताया कि आप चर्च में चले जाओ वहां जाकर सब ठीक हो जाएगा।

दरअसल मामला मुज़फ्फरनगर के खतौली क्षेत्र का है जहां चर्च में आने वाले लोगों को खतौली चर्च के पादरी निर्मल जैकप ने बहला फुसला कर धर्म परिवर्तन कराया है। धर्म परिवर्तन कर रहे लोगों का कहना है कि हमने इस धर्म से प्रभावित होकर यह धर्म अपनाया है। पहले हम बहुत ही परेशान थे और हमारी संतान जिंदा नहीं रहती थी लेकिन जब से हम ने यह धर्म अपनाया है, हम एकदम स्वस्थ हैं और अब हमारी संतान भी जिंदा है। भगवान ईशू की हम पर कृपा बनी है। जनपद मुज़फ्फरनगर के मोहद्दीन पुर गांव के 13 वर्षीय बालक ये यह भी खुलासा किया है कि हमसे पादरी निर्मल जो की खतौली के चर्च में है उन्होंने हमसे हमारा आधार कार्ड मांग था और हम को नहीं पता था कि हमारा धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है। अब पादरी का कहना है कि तुम अपने सारे दस्तावेज वापस ले लेना। अपने दुस्साहसिक कार्यो के लिए ये शब्द जोड़े उस पादरी ने की – हम उस के कहने पर वहां गए और वहां पर पादरी निर्मल ने हमारा धर्म परिवर्तन कराया और हम भगवान ईशू के चरणों मे जाकर बिल्कुल ठीक हो गए और अब हमारी पैदा होने वाली संतान भी जिंदा रहती है। वहीं मुजफ्फरनगर के कई हिन्दू संगठनों में धर्म परिवर्तन कराये जाने के मामले को लेकर भारी रोष है।

Share This Post

Leave a Reply