Breaking News:

दो मौलानाओं क खिलाफ महिला पहुंची पुलिस के पास… शिकायत में लिखा “गंदा काम”

सुप्रीम कोर्ट द्वारा अवैध घोषित किये जाने के बाद भी महिलाओं को अंतहीन प्रतड़ना देने वाली इस्लामिक कुरीति तीन तलाक के मामले लगातार सामने आ रहे हैं तथा मजहबी कट्टरपंथी  सर्वोच्च न्यायालय को ठेंगा दिखा रहे हैं. ताजा मामला उत्तर प्रदेश के संभल का है हलाला के नाम पर गलत काम का शिकार हुई महिला ने मंगलवार को संपूर्ण समाधान दिवस में जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से मिलकर कार्रवाई की मांग की. उसका कहना था कि उसके साथ गलत काम कराने वालों में दो मौलाना भी हैं. चूँकि महिला समाधान दिवस में थी इसलिए अपने साथ हुए कुकृत्य को महिला ने “गंदा काम” बोलकर कहा कि उसके साथ दो बार हलाला के नाम पर गंदा काम किया गया.

तीन तलाक और हलाला का शिकार हुई पीड़िता ने बताया कि उसकी शादी पांच वर्ष पूर्व नखासा थाना क्षेत्र के मोहल्ला निवासी युवक से हुई थी. परिजनों ने हैसियत के अनुसार दान दहेज दिया था. शादी के कुछ दिन बाद से ही उसके पति और ससुराल जनों ने मानसिक शोषण शुरू कर दिया. दहेज के रूप में मायके से रुपये लाने की मांग करने लगे. इसका विरोध किया तो पति और उसके परिवार वालों ने मारपीट करनी शुरू कर दी तथा 16 जून को पति ने तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया. तीन दिन बाद पति ने गलती की माफी मांगी और घर ले गया. वहां जाकर बताया कि दो मौलानाओं ने कहा है कि जब तक हलाला नहीं होगा तब तक दोबारा से उसे पत्नी नहीं माना जा सकता है.  पति और ससुरालीजनों ने 19 जून को देवर के साथ जबरदस्ती निकाह करा दिया. रात को आंखों पर पट्टी बांधकर देवर ने हलाला के नाम पर गलत काम किया.  अगली सुबह देवर ने तीन तलाक दे दिया लेकिन पति ने नहीं अपनाया. समाज के डर और परिवार की इज्जत की खातिर उसने किसी से कुछ नहीं बताया और मायके चली गई.  इसके बाद पति ने पांच जुलाई को कि वह साथ रहना चाहता है. इसके लिए दोबारा निकाह करेगा.

महिला का आरोप है कि पति की बातों के झांसे में आकर ससुराल चली गई.  वहां उसका शारीरिक शोषण किया और 17 जुलाई को पति ने बताया कि उसकी दो बड़े मौलानाओं से उसकी बात हुई है.  उन्होंने रिश्ते को नाजायज बताया है. इसके लिए हलाला कर तीन महीने 10 दिन की इद्दत करनी होगी, तब हम पति पत्नी के रूप में रह सकेंगे. इस पर 17 जुलाई की रात फिर से दो मौलानाओं ने ननदोई से निकाह करा दिया. फिर हलाला कर इद्दत करने की बात कही. आरोप है कि 18 जुलाई को ननदोई ने गलत काम किया तथा अगली सुबह तीन तलाक दे दिया.  लगातार हो रहे शारीरिक शोषण से मानसिक तनाव से ग्रसित हो गयी. महिला ने मायके पहुंचकर हलाला के नाम पर देवर और ननदोई ने किए गए गलत काम की जानकारी दी. जब परिजनों इसकी जानकारी हुई तो होश उड़ गए. पुलिस अधीक्षक ने इस पूरे मामले में जांच कर कठोर कार्रवाई के आदेश नखासा पुलिस को दिए हैं तथा पीड़िता को न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया है.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *