मुठभेड़ में मरे अपराधियों के मानवाधिकार और पुलिस के खिलाफ आवाज उठा रही पार्टी के विधायक से भी दाऊद इब्राहीम के नाम पर मांगी गई रंगदारी

आये दिन मुठभेड़ में मारे जा रहे दुर्दांत अपराधियों के पक्ष में आवाज बुलंद करने वाले और मोदी व् योगी सरकार को तमाम मुद्दों पर घेरने वाले बहुजन समाज पार्टी के विधायक के लिए उस समय तमाम दिक्कतें खड़ी हो गयी जब दाऊद इब्राहीम के नाम पर उनसे मांगी गयी फिरौती और न देने पर उन्हें सीधे मार देने की धमकी दी गयी .. इस फोन कॉल से बहुजन समाज पार्टी के विधायक काफी परेशान हो गये हैं और उन्होंने सीधे पुलिस में शिकायत की है . ये वो पार्टी है जिसने कई मामलों में उत्तर प्रदेश के उस शौर्य पर सवाल खड़ा किया जिसको पुलिस वालों ने पसीना , खून और अपना बलिदान दे कर साबित किया था . 

ज्ञात हो की उत्तर प्रदेश में एक तरफ जहां योगी सरकार आने के बाद जहाँ अपराधियों के एक के बाद एक मुठभेड़ों में मारे गये तो वही पुलिस और शासन के खिलाफ फर्जी मुठभेड़ का आरोप लगा कर बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के साथ कांग्रेस ने भी कई बार विवाद खड़ा किया और पुलिस को कटघरे में खड़ा कर दिया .. दिन रात कानून-व्यवस्था पटरी पर लाने के लिए प्रयास कर रहे अधिकारियों के रास्ते में अडचने पैदा कर रहे नेताओं के चलते बढ़ रहा है ये दुस्साहस .. इसी के चलते अब विधायकों को भी आनी शुरू हो गयी हैं धमकियां . वो विधायक जिन्होंने अपराधियों के मानवाधिकार के लिए उठाई थी आवाज . विधायक ने मोबाइल पर मैसेज भेजने वाले नंबर को ट्र कॉलर पर चेक किया तो उस पर दाऊद इब्राहिम नाम दिखा। इसके बाद ही विधायक ने पुलिस अफसरों से संपर्क किया। फिर गोमती नगर कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई। पुलिस निरीक्षक डी.पी. तिवारी ने बताया कि इस संबंध में रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज कराया गया है। पूरे मामले की जांच की जा रही है।

जिस प्रकार से आतंक का कोई धर्म नही उसी प्रकार से अपराध और अपराधी भी किसी के सगे नहीं ये उस समय साबित हुआ जब उत्तर प्रदेश के बलिया जिले की रसड़ा विधानसभा सीट से विधायक उमाशंकर सिंह को फोन पर धमकी देकर एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई है। इसकी रपट गोमती नगर थाने में दर्ज कराई गई है। पुलिस के मुताबिक, बलिया की रसड़ा विधानसभा सीट से बसपा विधायक उमाशंकर सिंह को फोन पर धमकी दी गई, फिर ईमेल व फोन से ही एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई। रंगदारी मांगने वाले ने खुद को दाऊद इब्राहिम बताया है। उसके ईमेल पर फोटो पर भी दाऊद का ही लगा हुआ था। विधायक ने गोमती नगर थाने में एफआईआर दर्ज करा दी है। विधायक उमाशंकर ने तहरीर में बताया है, ‘छह अगस्त को पहले उनके मोबाइल पर एक मैसेज आया, जिसमें उन्हें ई-मेल चेक करने को कहा गया। इस मैसेज पर उन्होंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया। दोबारा आठ अगस्त को फिर मैसेज आया। इसमें एक करोड़ रुपये न देने पर जान से मारने की धमकी दी गई।’

Share This Post

Leave a Reply