Breaking News:

पुलिस स्मृति दिवस के मौके पर यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने पुलिसकर्मियों के लिए की कई घोषणाएं.. सुदर्शन लगातार उठाता रहा है पुलिसकर्मियों के सम्मान व सुविधाओं में बढ़ोत्तरी की आवाज

आज पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर पूरा देश पुलिस के जवानों को उनकी बहादुरी, शौर्य, पराक्रम तथा कर्तव्य पथ दिए जवानों के बलिदान को याद कर रहा है तथा उन्हें सैल्यूट कर रहा है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने रिजर्व पुलिस लाइंस, लखनऊ में आयोजित ‘पुलिस स्मृति दिवस’ पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लिया तथा जवानों को सैल्यूट किया है. आज का दिन पुलिस के उन जवानों को याद करने का दिन है जिन्होंने अपना लहू देकर राष्ट्र सेवा के अपने दायित्व का निर्वहन किया. राष्ट्र की सुरक्षा के  सीमा पर तैनात भारतीय सेना देश की शान है तो आंतरिक शत्रुओं, अपराधियों से मुकाबला करने वाली पुलिस देश की जान है.

लखनऊ में पुलिस स्मृति दिवस की परेड में शामिल होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने पुलिस को जवानों को संबोधित करते हुए भाषण दिया तथा पुलिस के लिए कई सुविधाओं की घोषणा की. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर मैं देश के उन सभी शहीद पुलिसजनों जिनमें उत्तर प्रदेश के 67 बहादुर पुलिसकर्मी भी शामिल हैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं, जिन्होंने वर्ष 2017-18 में कर्तव्य की वेदी पर अपने प्राण न्यौछावर कर दिए. पुलिस बल के वीर शहीदों ने अपने सर्वोच्च बलिदान और त्याग से उत्तर प्रदेश शासन एवं पुलिस विभाग का गौरव बढ़ाया है. मैं इस अवसर पर उन बहादुर जवानों को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए उनके परिवार को आश्वस्त करता हूं कि राज्य सरकार उनके कल्याण के लिए और उन्हें हर संभव सहयोग करने के लिए सदैव तत्पर रहेगी.

मुख्यमंत्री योगी जी द्वारा पुलिस के जवानों के लिए की गयी घोषणाएं–

  • वर्ष 2019 के अन्त तक आरक्षी स्तर पर लगभग 1.25 लाख आरक्षियों की भर्ती पूर्ण होने से पुलिस बल में आरक्षियों की कमी लगभग समाप्त हो जाएगी। इसका सीधा लाभ आम जनता को होगा। साथ ही, पुलिसकर्मियों के अवकाश प्राप्त करने की वर्तमान समस्याओं का भी समाधान हो सकेगा.
  • सेवा अवधि के दौरान भी समय-समय पर प्रशिक्षण की व्यवस्था को सुचारु बनाया जा सकेगा। पुलिसकर्मी भी अपने परिवार की बेहतर देखभाल के लिए समय निकाल सकेंगे, जिससे वे तनाव रहित होकर कार्य कर सकेंगे.
  • विभिन्न जनपदों के थानों में बैरकों की कमी के कारण कई पुलिस कर्मियों को आवासीय सुविधा उपलब्ध नहीं हो पाती है। इस समस्या के समाधान के लिए राज्य सरकार पुलिस लाइन तथा थानों में समस्त सुविधाओं से सुसज्जित बैरकों के निर्माण के लिए धनराशि की व्यवस्था करेगी.
  • वर्तमान में 07 जनपदों चन्दौली, अमरोहा, औरैया, अमेठी, शामली, सम्भल तथा हापुड़ में पुलिस लाइन उपलब्ध नहीं है। इन जनपदों में भी पुलिस लाइन के निर्माण के लिए राज्य सरकार द्वारा धनराशि की व्यवस्था की जायेगी। इनमें भूमि चयन की कार्यवाही विभिन्न स्तरों पर है.
  • पुलिस के अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा जोखिम भरे कार्य के दौरान अदम्य साहस एवं विशिष्ट वीरता का परिचय देते हुए मृत्यु होने पर वर्तमान सरकार द्वारा उनके परिवार को मिलने वाली धनराशि को 20 लाख रुपये से बढ़ा कर 40 लाख रुपये पूर्व में किया जा चुका है.
  • इसके अलावा, शहीद के माता-पिता को पूर्व में दी जाने वाली धनराशि को बढ़ाकर 10 लाख रुपये किया जा चुका है.
  • उत्तर प्रदेश सरकार न केवल प्रदेश के बल्कि केन्द्रीय अर्द्धसैन्य बलों व दूसरे प्रदेशों के बलों अथवा सेना में कार्यरत रहते हुए शहीद होने वाले कर्मियों, जो उत्तर प्रदेश के मूल निवासी हैं, ऐसे शहीदों के परिवार को भी 25 लाख रुपये की दर से सहायता अनुमन्य करा रही है.
  • इन्हीं बलों के ऐसे कर्मी जो बाहर के निवासी हैं तथा जिनकी कर्तव्य पालन के दौरान उत्तर प्रदेश के अन्दर मृत्यु हो जाती है, उनके परिवार को भी 25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है। अब तक 27 शहीदों के परिवारों को कुल 07 करोड़ 60 लाख रुपये की धनराशि वितरित की गयी है.
  • पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर उत्तर प्रदेश केअपने बहादुर पुलिस जवानों से मैं यही आग्रह करूंगा कि वे अपनी पूरी ईमानदारी और कर्तव्य परायणता के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन करें.
  • 42,000 पुलिस कर्मियों की भर्ती प्रचलित है, इसमें और तेजी लाने के लिए अगले चरण में 51,216 पुलिस कर्मियों की भर्ती का भी कार्यक्रम पुलिस भर्ती बोर्ड द्वारा घोषित किया गया है.

आपको बता दें कि सुदर्शन न्यूज़ हमेशा से पुलिस के जवानों के सम्मान तथा सुविधाओं में बढ़ोत्तरी की आवाज उठाता रहा है. तमाम तथाकथित मानवाधिकारी, बुद्धिजीवी तथा मीडिया जब पुलिस के जवानों के खिलाफ तथा उस समय सिर्फ सुदर्शन न्यूज़ पुलिस के जवानों के पक्ष में उन्हें न्याय दिलाने के लिए खडा हुआ था. चाहे वह रामपुर का मामला हो, चित्रकूट का मामला हो, प्रयागराज सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह का मामला हो या फिर अलीगढ़ एनकाउंटर के अलावा लखनऊ विवेक तिवारी मामला हो, सुदर्शन ने पूरी ताकत से साथ पुलिस पक्ष की आवाज उठाई तथा पुलिस को मीडिया ट्रायल से बचाने के लिए काम किया. सुदर्शन न्यूज़ इस बात को मानता है कि अगर हमारा समाज आज भयमुक्त-निर्भीक जिन्दगी जी रहा है तो ये पुलिस के जवानों की बहादुरी के कारण ही संभव है. उत्तर प्रदेश पुलिस के जवानों की सुविधाओं में बढ़ोत्तरी के लिए सुदर्शन न्यूज़ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की सराहना करता है, उन्हें धन्यवाद करता है. साथ ही एक बार पुनः पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस के जवानों को वंदन करता है.

जय हिन्द

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ जी के सामने पुलिस के लिए उठाई आवाज

 

केन्द्रीय गृहराज्यमंत्री श्री हसंराज अहीर के समक्ष सुदर्शन ने उठाई पुलिस के हक़ के लिए आवाज…

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *