स्कूल के मासूमों को शिक्षा के बजाय स्वार्थी राजनीति सिखा रहे केजरीवाल.. शर्मनाक बयान से कटघरे में AAP

निज स्वार्थ के लिए पलटीमार राजनीति के बड़े पुरोधे बन चुके दिल्ली के मुख्यमंत्री तथा आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने शर्मनाक बयान दिया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को स्कूली छात्रों और अभिभावकों को संबोधित करते हुए आगामी लोकसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी को वोट देने की अपील की तथा कहा कि अगर आप अपने बच्चों से प्यार करते हैं तो नरेंद्र मोदी को वोट मत देना. केजरीवाल के इस बयान के बाद न सिर्फ वह बल्कि पूरी आप पार्टी विवादों में घिर गई है. इस बयान के लिए सोशल मीडिया पर केजरीवाल की जमकर खिचाई की गई तथा बीजेपी ने भी केजरीवाल पर हमला बोला.

केजरीवाल ने अपने भाषण के दौरान कहा, ‘मोदीभक्त कभी देश भक्त नहीं हो सकता और देशभक्त कभी मोदी भक्त नहीं हो सकता। अब समय आ गया है- आपको तय करना होगा कि आप देशभक्त हो या मोदीभक्त ? केजरीवाल ने कहा, ‘यदि आप ऐसे लोगों से पूछते हैं कि वे किसे वोट देंगे हैं, तो वे कहते हैं कि मोदीजी। यदि आप उनसे पूछते हैं कि क्यों, तो वे कहते हैं, कि वे मोदीजी से प्यार करते हैं। अब तय करें कि आप अपने बच्चों से प्यार करते हैं या मोदीजी से। यदि आप अपने बच्चों से प्यार करते हैं, तो उन लोगों के लिए वोट करें जो आपके बच्चों के लिए काम कर रहे हैं। और यदि आप अपने बच्चों से प्यार नहीं करते हैं, तो मोदीजी को वोट दें. केजरीवाल ने ट्वीट के माध्यम से भी इस बात को दोहराया.

केजरीवाल के इस बयान के बाद राजनैतिक गलियारों में भूचाल सा आ गया. भारतीय जनता पार्टी ने केजरीवाल पर हमला करते हुए कहा कि केजरीवाल ने देश का अपमान किया है. इधर बीजेपी ने केजरीवाल पर हमला बोला तो उधर सोशल मीडिया पर लोगों ने केजरीवाल की जमकर खिचाई की तथा कहा कि केजरीवाल को इलाज की आवश्यकता है. ट्विटर यूजर्स ने कहा कि जिस केजरीवाल ने मुख्यमंत्री बनने के लिए अपने बच्चों की झूठी कसम खाई थी वो अब हमें बच्चों की कसम देकर मोदी को वोट करने से रोक रहा है. ट्विटर यूजर्स ने केजरीवाल से पूंछा कि आपने बच्चों की खाते हुए कहा था कि कभी कांग्रेस से हाथ नहीं मिलाओगे तब कांग्रेस के सहयोग से मुख्यमंत्री क्यों बने?

Share This Post