जिस पहलू खान की मौत पर गौरक्षक हुए घोषित हुए थे गुंडे,, उसमें ऐसा खुलासा जो साबित कर देगा गौमाता के पीछे पड़ी साजिश को

राजस्थान के गौतस्कर पहलू खान हत्याकांड मामले में पहले से ही जिन साजिशों की आशंकाएं जताई जा रही थी तो आशंकाए सच में तब्दील होती आ रही हैं. आपको बता दें कि आपको बता दें कि पहलू खान मर्डर के गवाहों के ऊपर फायरिंग मामले में झूठा मुकदमा दर्ज कराने को लेकर अलवर पुलिस पहलू खान के बेटे और रिश्तेदारों पर मुकदमा दर्ज करेगी. अलवर पुलिस ने इस मामले की जांच करते हुए फाइनल रिपोर्ट पेश कर दी है. पेश की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि पहलू खान के बेटे और रिश्तेदारों पर किसी भी तरह से कहीं भी कोई फायरिंग नहीं की गई है और झूठा मामला इन लोगों ने दर्ज कराया है.

गौरतलब है कि शनिवार को मामले में कोर्ट में गवाही देने आ रहे पहलू खान के बेटे और रिश्तेदारों ने अलवर एसपी के पास पहुंचकर मुकदमा दर्ज कराया था कि गवाही देने आते समय रास्ते में नेशनल हाईवे नंबर आठ पर 9 बजकर 4 मिनट पर काले रंग के एसयूवी से कुछ लोग आए और गाड़ी को ओवरटेक करके रुकवाया. पहले तो आरोपियों ने उनके साथ गालीगलौज की और धमकाया. उसके बाद उनपर फायरिंग भी की. पहलू खान के बेटे इरसाद खान और आरिफ खान ने कहा था कि घटना वाले दिन दोनों भाई गाड़ी में सवार होकर जा रहे थे. उनके साथ मर्डर केस के दूसरे गवाह अजमत खान, रफीक खान और उनके वकील असद हयात भी गाड़ी में मौजूद थे. मामला सामने आने के बाद देशभर के सामाजिक संगठनों ने विरोध जताते हुए प्रदर्शन किया था कि हिंदूवादी संगठनों ने गवाहों पर हमला किया है.

अब इस मामले में नया खुलासा हुआ है कि गवाहों पर कोई फायरिंग नहीं हुई थी तथा एक साजिश के तहत झूठी कहानी गढ़ी गयी. मामला संज्ञान में आने के बाद  अलवर एसपी ने एक टीम बनाकर नीमराना और रोड के आसपास जांच के लिए भेजा था. जहां पर सभी तरह के सीसीटीवी फुटेज की जांच की गई. साथ ही वहां से गुतरने वाली गाड़ियों के रिकॉर्ड भी लिए गए. जांच में रास्ते में कहीं भी काले रंग का एसयूवी नहीं दिखाई दी. पुलिस का कहना है कि जिस जगह पर फायरिंग होना बताया गया है, उस जगह के तमाम सीसीटीवी कैमरे की जांच की गई, लेकिन कहीं भी कोई भी काले रंग की एसयूवी उस रास्ते से गुजरता हुई नहीं दिखी. ऐसे में अलवर पुलिस पहलू खान मर्डर मामले के गवाहों के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कराकर देशभर में हंगामा मचाने का मुकदमा दर्ज कराएगी. अलवर एसपी राजेंद्र सिंह का कहना है कि रिश्तेदारों ने गलत मुकदमा दर्ज कराया है, इसलिए इस मुकदमे में एफआऱ लगाते हुए उनके खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कराने का केस दर्ज करवाया जाएगा.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *